innocent pregnant

गर्भवती से कृत्य करने वाले भी नाबालिग

गुरुदत्त चौहान। पांवटा साहिब
देवभूमि एक बार फिर शर्मसार हुई है। शिलाई थाने के अन्तर्गत कफोटा के पास एक गांव में नाबलिग के गर्भवती होने का मामला सामने आया है। गर्भवती लड़की की उम्र सिर्फ 12 साल है। चिंताजनक विषय यह भी है कि नाबालिग के साथ ऐसा कृत्य करने वाले की उम्र भी 16 वर्ष बताई जा रही है। इस घटना से कानून और समाज के समक्ष फिर वही यक्ष प्रश्न उठा खड़ा हुआ है कि इस अनाचार के लिए दोषी कौन है और महज 12 वर्ष की मां और उसके गर्भ में पल रहे बच्चे का क्या होगा।

शिलाई क्षेत्र में 8 वी कक्षा की छात्रा के साथ दुराचार हुआ है। दुराचार का घिनोना कृत्य बीते शनिवार को उस वक्त उजागर हुआ, जब लड़की ने पेट मे दर्द होने की शिकायत की। लड़की को इलाज के लिए सिविल अस्पताल लाया गया। यहां लड़की के पांच माह से गर्भवती होने का खुलासा हुआ। राज खुलने पर परिजनों ने लड़की से पूछा तो मासूम ने उसके साथ हुए दुराचार की बात बताई। मामला उजागर होने पर लड़की के परिजनों ने इसकी पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।

पुलिस ने दुराचार के आरोपी को हिरासत में तो लिया लेकिन आरोपी भी नाबालिग निकला। बहरहाल पीडि़ता के न्यायालय में बयान दर्ज कर लिए गए हैं और नाबालिग आरोपी को अविभावकों के सुपुर्द कर दिया गया है।

पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी लेकिन महज 12 साल की मां और उसके अजन्मे बच्चे के भविष्य के सवालों के बीच सामाजिक जागरूकता का स्याह सच सबको कचोट रहा है। सवाल यह भी खड़े हो गए हैं कि अंतरिक्ष फतह के इस दौर में देवभूमि के ऐसे कलंक कैसे धुलेंगे। समाज में इतनी जागरूकता कब और कैसे आएगी कि किसी बिन ब्याही मासूम को मातृत्व का बोझ न ढोना पड़े।

लगातार प्रकाश में आ रही ऐसी घटनाएं विकृत सामाजिक व्यवस्था के साथ साथ आधुनिक शिक्षा प्रणाली पर भी गंभीर सवाल उठा रही है। स्कूलों में भौतिक शिक्षा के साथ संस्कारों के हस्तांतरण वाली पद्धति कब लागू की जाएगी, जिससे सुसंस्कारों की नींव पर बच्चों के मजबूत और सम्मानजनक भविष्य का निर्माण संभव हो। डीएसपी सोमदत्त ने नाबालिग के साथ दुराचार और गर्भवती होने के मामले की पुष्टि करते हुए कहा कि पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams