News Flash
Bal Balika Orphanage Garli

 

रहस्मय परिस्थितियों से भागी लड़की का कोई अहम सुराग नहीं

अलग-अलग टीम बनाकर जगह-जगह ढूंढ रही है खाकी

हिमाचल दस्तक, अश्वनी शर्मा। गरली

धरोहर गांव गरली के बाल-बालिका अनाथ आश्रम से शनिवार दिन-दहाडे़ अचानक सरकारी भवन की दीवार फांद कर एक 14 वर्षीय लड़की रहस्मय परिस्थितियों से भाग जाने का मामला प्रकाश मे आया है। जिससे न केवल करोडो़ रुपये की लागत से बने सरकारी भवन मे जीवनयापन कर रही तमाम बेसहारा लड़कियों की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर सवाल उठना शुरु हो गया है। यहां तैनात मुलाजिम कितनी जिम्मेदारी से अपनी ड्यूटी दे रहे है, इसका अंदाजा आप यहीं से ही लगा सकते है। वारदात के दौरान इस सरकारी आश्रम भवन की चारदीवारी के मेन गेट को ताला लगा रखा था, लेकिन इसके बावजूद भी चारदीवारी को फांदकर भागना कहीं न कहीं सरकारी भवन या यहां तैनात मुलाजिम की बहुत बड़ी चूक है।

वहीं उक्त आश्रम मे तैनात सुपरिडेन्ड ईशू डोगरा के अनुसार हर रोज की तरह शनिवार सूबह करीब साढे़ सात बजे जब आश्रम मे मौजूद तमाम लड़कियों की एक रजिस्टर पर हाजरी लगाई तो वह आश्रम मे मौजूद थी। लेकिन उसके बाद वह लड़कियों को ऊपरी मंजिल वाले भवन मे ले गए। इसी दौरान उक्त 14 वर्षीय लड़की चकमा देकर भाग निकली। वहीं मुलाजिमो ने भी लड़की की जगह-जगह तलाश की लेकिन कहीं भी कोई सुराग नहीं मिला। उसके पश्चात् इसकी सूचना उक्त मुलाजिमो ने पुलिस थाना रक्कड को दी। मौके पर पहुंचे अडिशनल थाना प्रभारी विक्रम सिहं ने बाल-बालिका अनाथ आश्रम का मुआईना करते हुए पुलिस की अलग-अलग टीमें गठित कर क्षेत्रभर की तमाम गलियां छान मारी, लेकिन खबर लिखे जाने तक पुलिस भी लड़की को नहीं ढूंढ पाई थी।

Bal Balika Orphanage Garli

कहा जा रहा है कि करोडो़ रुपये की लागत से बने इस भवन की चारदीवारी उक्त लड़कियों की सुरक्षा के हित मे नही है। यानी उक्त चारदीवारी कई जगहों से इतनी छोटी है कि बाहर या अन्दर से कोई भी व्यक्ति आसानी से भवन में प्रवेश कर सकता है। जो कि विभागीय प्रशासन की बहुत बडी़ नाकामी है, हालाकि सुत्रो की बात माने तो यहां तैनात मुलाजिम सम्बंधित विभाग को कई बार इस चारदीवारी को ऊंची करने के लिए मांग उठा चुके है। लेकिन उक्त भवन को बनने के करीब तीन साल बाद भी विभागीय प्रशासन चारदीवारी को ऊंची नही कर पाया। वरना आज आश्रम से लड़की भागने मे कभी सफल नहीं हो पाती।

बताया जा रहा है कि 15 जून को ही उक्त लड़की ऊना से यहां आई थी। मानसिक तौर से परेशान उक्त लड़की की देखभाल के लिए यहां तैनात स्टाफ रात दिन सेवा मे जूटा हुआ था, लेकिन अचानक कैसे भाग निकली यह तो पुलिस के लिए जांच का विषय है। डीएसपी ज्बालामुखी तिलक राज ने खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि गरली आश्रम से अचानक रहस्मय परिस्थितियों से भागने मे सफल हुई लड़की को ढूंढने के लिए रक्कड पुलिस जगह-जगह तलाश मे जुटी हुई है।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams