पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र के गृह क्षेत्र की काशापाट सड़क का हाल

हिमाचल दस्तक। रामपुर बुशहर : पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के गृह क्षेत्र रामपुर के दूरदराज क्षेत्र काशापाट के लिए बनाई जा रही 17 किलोमीटर लंबी सड़क 40 साल में भी पूरी नहीं हुई है। इस सड़क पर अब तक 42 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं। सड़क निर्माण में घपले की शिकायत के बाद राज्य सरकार ने जांच के लिए एक हाई पावर कमेटी बनाई है।

इस जांच कमेटी में एक मुख्य अभियंता और दो अधीक्षण अभियंता शामिल हैं। ग्रामीण संघर्ष समिति के लोग 4 जुलाई को इस टीम से शिमला जाकर मिले और दस्तावेज भी दिए। अब ये टीम 25 जुलाई को यहां दौरे पर आ रही है। अति दुर्गम क्षेत्र काशापाट के लिए सड़क बनाने में चट्टानें बाधा बनी हुई हैं। अभी भी पंचायत मुख्यालय तक पहुंचने के लिए एक किलोमीटर सड़क शेष बची है। उधर, सड़क निर्माण में धांधली की आशंका को देखते हुए स्थानीय लोगों ने कई जांच एजेंसियों से शिकायत की थी। काशापाट के लोग इस बात को लेकर के हैरान हैं कि कछुए की चाल से सड़क का निर्माण किया, लेकिन इस सड़क में ऐसी कौन सी बात रही कि जो पानी की तरह पैसा बहाया गया।

आरटीआई से खुलासा हुआ है कि 17 किलोमीटर सड़क के निर्माण में 42 करोड़ रुपये की राशि खर्च हो चुकी है और इसमें भी दिसंबर, 2017 से मार्च 2018 तक 300 मीटर सड़क निर्माण में ही साढ़े पांच करोड़ से अधिक राशि व्यय की गई है। कशापाट निवासी दीपचंद साहनी, वीरचंद सहानी, मोहनलाल बिष्ट , मनमोहन सिंह, हरि सिंह, जियालाल, रोशन लाल आदि ने बताया कि सड़क निर्माण में गड़बड़ी की आशंका के चलते उन्होंने लोक निर्माण विभाग से जानकारियां मांगी, लेकिन अभी तक कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। आरटीआई कार्यकर्ता सीताराम धीमान ने कुछ जानकारी ली है, इसमें भी लोगों को गुमराह करने के लिए एक मेजरमेंट बुक की फोटो प्रति दी गई है, जबकि एमबी में लोगों को पूरा विवरण नहीं मिला।

पैदल चलने वाला रास्ता भी हुआ खराब

ग्रामीणों का कहना है कि सड़क निर्माण की वजह से ग्रामीण लोगों के खच्चर और पैदल रास्ते भी नष्ट कर दिए गए है। हालात ये हैं कि पैदल चलना भी मुश्किल है। बीते वर्ष भी पैदल मार्ग सड़क निर्माण में निकले मलबे में दबने से खराब हो गया था। लोगों के हजारों पेटी सेब और आलू खेतों में सड़ गए। इस बार भी यह स्थिति न हो, इसे देखते हुए जल्द शेष बचे मार्ग को खोलने की मांग लोग उठा रहे हैं।

“काशापाट सड़क निर्माण का कार्य जारी है। प्रयास है कि जल्द से जल्द पंचायत मुख्यालय तक सड़क पहुंचे। मैं स्वयं भी मौके का लगातार दौरा कर रहा हूं। जांच टीम आ रही है, जो दस्तावेज चाहिए होंगे, सारे उपलब्ध करवाए जाएंगे। “
                                                                                                -पीआर नेगी, अधिशाषी अभियंता, रामपुर मंडल

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams