officers

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सरकारी अमले को चेताया

कहा, जनमंच कोई सामान्य कार्यक्रम नहीं, गंभीरता दिखाएं

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला/सोलन
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने साफ किया है कि उनकी सरकार प्रदेश के लोगों को पेश आने वाली दिक्कतों को हल करने के लिए गंभीर है और इसके लिए जनमंच कार्यक्रम लांच किया गया है। उन्होंने चेताया है कि सरकारी अमला भी इस कार्यक्रम को गंभीरता से ले। वह मीडिया से अनौपचारिक बात कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनमंच एक आम कार्यक्रम नहीं है। प्रदेश के सभी अधिकारियों, कर्मचारियों को जनमंच के महत्व एवं उपयोगिता को समझना होगा। जनमंच कार्यक्रम में किसी भी स्तर पर किसी भी अधिकारी अथवा कर्मचारी की कोताही पाई गई तो उनके विरुद्ध निश्चित कार्रवाई की जाएगी।

मुख्यमंत्री जयराम ने कहा कि प्रदेशवासियों की विभिन्न समस्याओं का उनके घर द्वार के समीप शीघ्र एवं निश्चित समाधान करने के लिए राज्य सरकार ने ये कार्यक्रम आरंभ किया है। अभी तक प्रदेश में केवल दो जनमंच कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। जनमंच समस्या समाधान में सशक्त माध्यम बनकर उभरा है। प्रदेश सरकार आने वाले जनमंच कार्यक्रमों को और बेहतर बनाने की दृष्टि से कुछ नवीन प्रयास भी आरंभ करने जा रही है। जनमंच कार्यक्रम का नियमित अवलोकन भी किया जा रहा है।

आलोचना छोड़कर रचनात्मक सहयोग दे विपक्ष

जयराम ठाकुर ने विपक्ष को परामर्श दिया कि केवल आलोचना के लिए आलोचना न करें तथा प्रदेश सरकार को विकास के लिए रचनात्मक सहयोग प्रदान करें।

प्रमाणपत्र मिलने पर दो खिलाडिय़ों ने जताया आभार

मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय खिलाड़ी पूनम पुत्री मोती राम तथा स्मृति पुत्री गोवर्धन से भेंट की। इन दोनों खिलाडिय़ों का 5 साल से हिमाचली प्रमाणपत्र नहीं मिल रहा था। शिक्षा मंत्री ने इनके प्रमाणपत्र बनवाए। दोनों खिलाडिय़ों ने इसके लिए सीएम का आभार व्यक्त किया।

आगे भी बनाकर रखें जोर लगाकर हईशा का फार्मूला

राजगढ़ में मुख्यमंत्री ने कांग्रेसी नेताओं को सुनाई खरी-खोटी

आरडी पराशर। सराहां/राजगढ़
राजगढ़ पहुंचने से पहले मैं रास्ते में सोच रहा था कि यह किसी राजा का गढ़ रहा होगा। लेकिन यहां आकर पता चला कि यहां के लोग ही यहां के राजा हैं, क्योंकि इन्होंने किसी राजा के आदेश को भी नहीं माना था। उनका ईशारा पझौता आंदोलन की तरफ भी था। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मंगलवार को राजगढ़ के नेहरू ग्राउंड के मंच से कहा कि आप लोगों ने जिस प्रकार 35 वर्ष से एक व्यक्ति जो यहां डटा हुआ था, उसका एक ही धक्के में जोर लगाकर हईशा किया है, उसे आगे भी बनाए रखना, ताकि यहां का विकास निंरतर बना रहे।

उनका ईशारा जीआर मुसाफिर की ओर था। हालांकि मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में विपक्ष को बड़े शिष्टता भरे अंदाज में मीठे-मीठे तंज कसे, वहीं उन्होंने बातों ही बातों में अपने उन लोगों को भी नसीहत दे डाली जो कह रहे थे कि मुख्यमंत्री कुछ नहीं कर पाएंगे। मुख्यमंत्री ने मंच से यह भी कहा कि 2007 से पहले कभी भी पार्टी पूर्ण बहुमत में नहीं आई थी और उस दौरान प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष भी सबसे कम उम्र का मुझे ही बनाया गया था। मेरे उस दौरान के 9 महीने के कार्यकाल ने पार्टी को पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने का अवसर भी दिलाया।

उन्होंने अपने उन लोगों की तरफ ईशारा करते हुए कहा कि सभी बातें अनुभव पर ही नहीं अनुभव के साथ कड़ी मेहनत भी करनी पड़ती है। ऐसा प्रदेश के इतिहास में कभी नहीं हुआ होगा कि प्रदेश के किसी मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में देश के प्रधानमंत्री शामिल हुए हों। प्रधानमंत्री ने शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होकर प्रदेश के लोगों का मान भी बढ़ाया था।

यह भी पढ़ें – घरद्वार पर ही मिलेेगी जनता को हर सुविधाएं – अनुराग

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams