piplage mother

ढोल-नगाड़े की थाप पर हारियानों सहित जिया संगम में किया शाही स्नान

हिमाचल दस्तक। कुल्लू
हिमाचल देवभूमि है और जिला कुल्लू के कण-कण में भी देवी देवताओं का वास है। यहां देवी देवता नए रथ में विराजमान होने पर पार्वती व व्यास के संगम तट पर शाही स्नान करते है। रविवार को भुंतर से सटे पिपलागे की माता नैणा उग्रतारा 18 वर्ष बाद नए रथ में विराजमान हुई।

माता नैणा दोपहर एक बजे अपने हारियानों के साथ ढोल नगाड़े की थाप पर मंदिर से जिया संगम की ओर रवाना हुईं। वहीं इस शुभ अवसर पर तेगूबेहड से माता भद्रकाली भी अपने हारियानों सहित शामिल हुईं।

वहीं माता के पुजारी अमित मंहत ने जानकारी देते हुए बताया कि विधि-विधान के साथ माता नैणा ने पार्वती व व्यास नदी के तट पर शाही स्नान किया और उसके बाद हवन भी किया गया। साथ ही उन्होंने बताया कि इस दौरान सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भी स्नान किया और शाही स्न्नान के बाद भंडारे का भी आयोजन किया गया। इसमें सैकड़ों श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams