News Flash
Anil Sharma will definitely take action: Satti

कहा, सुखराम परिवार का नहीं कोई स्टैंड, वर्कर पर सवाल उठाना गलत

राजीव भनोट, ऊना। : हिमाचल प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि निश्चित रूप से पार्टी पूर्व मंत्री अनिल शर्मा पर यथासंभव कार्रवाई करेगी। इसके लिए बकायदा रणनीति बनाकर के पार्टी हाईकमान व मुख्यमंत्री से मशवरा करने के बाद उचित निर्णय लिया जाएगा। 

सत्ती ने कहा कि अनिल शर्मा पार्टी के प्रचार में शामिल नहीं हुए हैं, न ही उन्होंने मंडी क्षेत्र के साथ-साथ मंडी सदर हल्के में पार्टी के कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। पार्टी का जो भी निर्देश होगा, उसके अनुसार उचित कार्रवाई होगी। सुखराम परिवार का कोई स्टैंड नहीं है, ऐसे में उनके लिए कोई काम क्यों करें। जहां तक कांग्रेस पार्टी की मंडी क्षेत्र में बात है तो कार्यकर्ताओं ने अपनी पार्टी प्रत्याशी के लिए काम किया ही होगा, ऐसे में यदि अनिल शर्मा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की मेहनत पर प्रश्न उठाते हैं, तो इसका उन्हें कोई अधिकार नहीं है कि वह कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं पर प्रश्न चिन्ह लगाएं। उन्होंने कहा कि स्टैंड तो सुखराम परिवार का कोई नहीं है, वे अपने वऊायदे के लिए स्टैंड को बदलते हैं और दोषारोपण कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर कर रहे हैं।

निश्चित रूप से इस क्षेत्र में भाजपा अच्छे मार्जिन से जीत रही है और कार्यकर्ताओं की यह मेहनत है। वही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा के समर्थन में लोग अपना जनमत दे रहे हैं। सती ने कहा कि अनिल शर्मा का स्टैंड भी गलत है और एग्जिट पोल के परिणाम में मंडी भाजपा के खाते में आ रहा है और ईवीएम के माध्यम से भी मंडी भाजपा के खाते में आएगा। ऐसे में अनिल शर्मा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर गुस्सा उतार रहे हैं। प्रदेश के सभी भाजपा नेताओं ने मेहनत की है और कार्यकर्ताओं की मेहनत के बल पर पार्टी एक बार पुन: बेहतर इतिहास को दोहरा रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के स्टार प्रचारक रहे नवजोत सिंह सिद्धू पर जिस प्रकार से कांग्रेस में राजनीति हो रही है,यह अपने आप में साफ  है कि नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी क्या हालत कर ली है। उन्होंने कहा कि सिद्धू ने भाजपा छोड़कर आत्महत्या जैसा कदम उठाया। उन्होंने कहा कि जब भी भाजपा में थे, तो राष्ट्रवादी विचारों के साथ आगे बढ़ रहे थे, लेकिन अब कांग्रेस में आकर उनकी बोली और भाषा दोनों बदल गए हैं। अब तो पंजाब के मंत्री  व मुख्यमंत्री ही उन पर सवाल उठाने लगे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी तो सलाह है कि कांग्रेस जितनी जल्दी नवजोत सिंह सिद्धू से पीछा छोड़ेगी, उतना ही उसके लिए बेहतर होगा।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams