News Flash
Baga cement factory is organized against the management of affected areas of rural

प्रभाावित ग्रामीणों ने मुददे को लेकर सीएम से की भेंट ,  कहा , एनजीटी एवं प्रदेश प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड करे उचित कार्रवाई ,  नहीं हुए कार्रवाई तो होगा विशाल आंदोलन , सरकार एवं जिला प्रशासन के आदेशों को अनसुना कर रहा कारखाना प्रबंधन ,  कंपनी कालौनी के पानी एवं बिजली के कुनैक्शन काटने की मांग

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। बिलासपुर : नवगांव बैरी दाडला मोड़ सड़क मार्ग की बेहद खस्ता हालत को लेकर ग्राम पंचायत साई खारसी के खारसी, साईं, भडेतर के सीमेंट कारखाना प्रभावित ग्रामीणों ने बिलासपुर व सोलन जिले की सीमा पर स्थित अल्ट्राटैक (बागा) सीमेंट कारखाना प्रबंधन के बेरूखी रवैये के प्रति मोर्चा खोल दिया है।

इन क्षेत्रों के ग्रामीणों ने कंपनी प्रबंधन को दो टू क शब्दों में कहा कि यदि नवगांव बैरी दाडला मोड़ सड़क मार्ग की बेहद खस्ता हालत नहीं सुधरी तो वह एनजीटी एवं प्रदेश प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड से उचित कार्रवाई की मांग करने के अलावा मिलकर एक विशाल आंदोलन करने से पीछे नहीं हटेंगें। हालांकि मुख्यमंत्री जय राम ने इस मुददे पर उचित कार्रवाई का आश्वसन दिया है। अगर फिर समस्या हल नहीं हुआ , तो वह आंदोलनात्मक रुख अपनाएंगे। यहां ,पर साई खारसी के पंचायत समिति सदस्य आत्म देव एवं प्रभाावित ग्रामीणों ने गत सायं मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के समक्ष उठाया। जिस पर उन्होंने लोगों को उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया।

उन्होंने बताया कि इस सड़क के मुददों को गत सात अक्टूबर को रानी कोटला में आयोजित जन मंच कार्यक्रम में विस अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल के समक्ष उठाया था। व उ उन्होंने कंपनी के अधिकारियों को सड़क की हालत सुधारने के आदेश दिए थ्रे। लेकिन कंपनी के अधिकारी न तो प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन के आदेशों पर गौर कर रहे हैं। जिससे लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। उन्होंने कहा कि सड़क की खस्ता हालत के कारण उडऩे वाली धूल मिटटी से पशुओं का चारा, पीने का पानी, व धूल से लोगों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

जिसे क्षयरोग व सांस की बिमारियों के फैलने का खतरा बना हुआ है। उन्होंने कहा कि इस सड़क मार्ग पर पानी का छिडकाव भी कभार किया जाता है। यह सड़क भारी भरकम ट्राले व वाहन चलने से उखड़ गई है। उन्होंने कहा कि लोक निर्माण विभाग द्वारा सड़क पर तारकोल बिछाई जा रही है लेकिन कंपनी ने विभाग को काम बंद करने के आदेश दे डाले हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया

कि भडेतर स्थित प्राकृतिक जलस्त्रोत में सिवरेज का गंदा पानी डाल गया है। जिससे लोगों को पीने का पानी बर्बाद हो गया है। उन्होंने सरकार ने मांग करते हुए कहा कि अगर कंपनी प्रबंधन इस मुददे पर अडियल रवैया अपनाती है तो बिलासपुर सीमा के भीतर बनाई गई कालौनी के बिजली पानी के कुनैक्शन काटे जाएं। उन्होंने एनजीटी एवं हिमाचल प्रदेश प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड से उचित कार्रवाई करने की मांग की है।

अनूप शर्मा

 

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams