News Flash
bhupinder singh

अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक अपने गांव खौदा में संवारेंगे बच्चों का भविष्य

  • आठ से चौदह वर्ष के नौनिहालों को चैंपियन बनाने का दिया जाएगा प्रशिक्षण
  • हिमाचली प्रतिभाओं को तराश कर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाना मकसद

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। हमीरपुर
अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रशिक्षक भूपिंदर सिंह अप्रैल, 2019 से अपने गांव खौदा उपतहसील टिहरा जिला मंडी में राज्य का पहला खेल स्कूल शुरू करने जा रहे हैं। इस स्कूल में आठ से चौदह वर्ष के बच्चों को भविष्य का स्टार चैंपियन बनाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

भूपिंदर सिंह अनुभवी व जुनूनी एथलेटिक्स प्रशिक्षक हैं। 1988 से लेकर अक्तूूबर, 2015 तक हमीरपुर के सरकारी महाविद्यालय के मानद एथलेटिक्स प्रशिक्षक रहे हैं। इन 27 साल में इस महाविद्यालय के धावकों ने 1989 में पहली बार विश्वविद्यालय की अंतर महाविद्यालय एथलेटिक्स ट्रॉफी हमीरपुर महाविद्यालय के लिए जीतने के बाद अब तक 21 बार विजेता व उपविजेता ट्रॉफियों पर कब्जा किया।

26 बार सर्वश्रेष्ठ एथलीट हमीरपुर महाविद्यालय के रहे। 1994- 95 में पुष्पा ठाकुर अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यालय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में पदक जीतने वाली हमीरपुर की पहली धावक बनी और यहीं से राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर के लिए चुनी गईं। हमीरपुर महाविद्यालय के धावकों ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के लिए एक दर्जन से अधिक पदक अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यलय एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में जीते हैं।

भूपिंदर सिंह देश प्रदेश के प्रतिष्ठित समाचार पत्रों को खेल सतंभ लिखते हैं

मंजू कुमारी सर्वश्रेष्ठ एथलीट बनी तथा संजो देवी ने नया कीर्तिमान बनाकर वल्र्ड यूनिवर्सिटी के लिए भी क्वालीफाई किया। पुष्पा ठाकुर दौड़ में सीनियर नेशनल गेम में पदक लेने वाली पहली धाविक हैं तथा संजो देवी भाला प्रक्षेपण में हिमाचल से पहली सीनियर नेशनल चैंपियन बनीं। पुष्पा ठाकुर व संजो देवी को परशुराम अवॉर्ड मिला है। भूपिंदर सिंह की हमीरपुर न तो नौकरी थी और न किसी भी प्रकार का बिजनेस था और न ही उनका वहां घर था, फिर भी 27 वर्ष मानद प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाया। इसके साथ 15 साल तक अंतरराष्ट्रीय खेल विज्ञान व शारीरक शिक्षा के जर्नल का सफलतापूर्वक संपादन किया है।

भूपिंदर सिंह देश प्रदेश के प्रतिष्ठित समाचार पत्रों को खेल सतंभ लिखते हैं। अक्तूबर 2015 में राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में जाने बाद राष्ट्रीय प्रशिक्षक के रूप में भुनेश्वर में आयोजित एशियन एथलेटिक्स प्रतियोगिता 2017 तथा तेहरान इंडोर एशियन एथलेटिक्स प्रतियोगिता 2018 में भारत का प्रतिनिधित्व किया। 2020 टोक्यो ओलंपिक तक ओलंपियन ओपीकहराना गोला प्रक्षेपक के व्यक्तिगत प्रशिक्षक हैं।

भूपिंदर सिंह का कहना है कि हिमाचल का जलवायु खेल प्रशिक्षण के लिए यूरोप व अमेरिका से भी बेहतर है यहां पर पूरा वर्ष प्रशिक्षण कार्यक्रम चल सकता है। इस लिए हिमाचल में इस तरह के खेल स्कूल चलाकर हिमाचली प्रतिभाओं को तराश कर उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाकर कर अपनी जन्मभूमि की सेवा करना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें – कुल्लू-लाहौल की पहाडिय़ों पर बिखरी सफेद चादर

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams