News Flash
Big steps for Himachal to improve animal breed

रेडसिंधी, साहीवाल गायों के लिए शुरू होगा भ्रूण प्रत्यारोपण , मुर्राह भैंस प्रजनन फार्म जल्द, ताल में बनेगा बीटल गोट फार्म

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : पशुपालन विभाग को स्वतंत्र मंत्रालय घोषित करने से किसानों की आय को दोगुना करने में मदद मिलेगी। पशुपालकों के विकास के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उठाया गया यह बड़ा कदम है। यह बात ग्रामीण विकास, पंचायती राज एवं पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने होटल हॉलीडे होम में राष्ट्रीय गोकुल मिशन की स्तरीय संगोष्ठी में कही। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के निर्णय को अमलीजामा पहनाने के लिए प्रदेश में सभी विभागीय अधिकारियों को सक्रिय प्रयास करने होंगे, ताकि पशुपालकों को इसका लाभ प्राप्त हो सके।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा 20 करोड़ की राशि पशुपालन विभाग को गौ संरक्षण व संवद्र्धन तथा नस्ल सुधार के लिए स्वीकृत की गई है। विभाग द्वारा 20वीं पशुधन गणना का कार्य पूर्ण कर लिया गया है, जिससे प्रदेश में पशुओं की कुल संख्या 47.22 लाख आंकी गई है। प्रदेश में 3478 चिकित्सा संस्थानों के माध्यम से पशुओं को चिकित्सा, टीकाकरण व नस्ल सुधार की योजनाओं का लाभ प्रदान किया जा रहा है।

कंवर ने कहा कि इस योजना के तहत भू्रण प्रत्यारोपण प्रयोगशाला पालमपुर में रेडसिंधी, साहीवाल नस्ल की गायों में भ्रूण प्रत्यारोपण तकनीक पर कार्य आरंभ करने के लिए 1.95 करोड़, गोकुल ग्राम की स्थापना को 10 करोड़ तथा मुर्राह भैंस प्रजनन फार्म के लिए 5 करोड़ और वीर्य केंद्र आदोवाल के उन्नयन के लिए 2.15 करोड़ स्वीकृत किए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहला बीटल गोट फार्म हमीरपुर के ताल क्षेत्र में एक करोड़ से स्थापित किया जा रहा है।

संगोष्ठी में राष्ट्रीय डेयरी विकास निगम नई दिल्ली के सहायक निदेशक डॉ. सत्यपाल कुरी ने पशु संजीवनी कार्यक्रम तथा डॉ. संदीप सांख्यान और डॉ. मुनीष बत्ता ने पशु प्रजनन नीति एवं मुंह खुर रोग नियंत्रण विषय पर जानकारी प्रदान की।

पशु संजीवनी योजना में 770 दुधारू पंजीकृत

मंत्री ने कहा कि पांच जिलों में परीक्षण के आधार पर 770 दुधारूओं का पशु संजीवनी योजना में पंजीकरण किया गया है। विभाग द्वारा वर्षभर में नौ लाख गाय व 3.31 लाख भैंसों में कृत्रिम गर्भाधान किया है। पशु अस्पतालों में इन नस्लों के वीर्यतृण उपलब्ध करवाए जा रहे हैं, जो उच्च दूध उत्पादन क्षमता वाले हैं। सूअर प्रजनन केंद्र और बायोलॉजिकल प्रोडक्टस यूनिट का प्रस्ताव भी केंद्र को भेजा गया है।

9.60 लाख दुधारू पशुओं के कान में लगेगा टैग

निदेशक पशुपालन विभाग डॉ. सुरेश कुमार ने कहा कि 2014 में शुरू राष्ट्रीय गोकुल मिशन के तहत पशु संजीवनी योजना आरंभ करने जा रहा है, जिसमें पशुओं का अभिलेख रखने के लिए अंतरराष्ट्रीय कमेटी द्वारा निर्धारित मापदंडों पर कार्य किया जाएगा। प्रथम चरण में इस योजना के तहत 9.60 लाख दुधारू पशुओं के कान में टैग लगाने तथा पशुपालकों को नकुल स्वास्थ्य पत्र प्रदान किए जाएंगे।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams