bilaspur bus stand

न भाजपा ने किए प्रयास, न ही कांग्रेस दे पाई सुविधा

बसों के जमावड़े के आगे छोटा पड़ रहा 60 के दशक में बना बस अड्डा

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। बिलासपुर
बिलासपुर शहर को आज तक बोओटी आधारित बस अड्डा नहीं मिल पाया है। आज तक इस मुद्दे पर न तो भाजपा और न ही कांग्रेस ने गौर किया। गौरतलब है कि कांग्रेस सरकार ने अपने पूर्व कार्यकाल में बिलासपुर शहर में बीओटी आधारित बस अड्डा बनाने की बात कही थी तथा HRTC कार्यशाला के पास (निहाल) में बस अड्डा बनाने की कवायद शुरू कर दी थी, लेकिन बाद में यह मुहिम ढीली पड़ गई। इसके बाद भाजपा सत्ता पर काबिज हुई, लेकिन भाजपा ने भी कुछ नहीं किया।

गौरतलब है कि 60 के दशक में यह बस अड्डा बना था, तब यहां से केवल पांच-सात बसें ही चलती थीं, लेकिन अब बसों की संख्या काफी बढ़ गई है। इससे यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई बार तो बसोंं का जमावड़ा बाहर तक लग जाता है। एनजीओ के पूर्व जिला अध्यक्ष केश पठानिया, जागो मंच के संयोजक व अधिवक्ता प्रवेश चंदेल का कहना है कि इस मुद्दे पर आज तक न ही भाजपा और न ही कांग्रेस ने गंभीरतापूर्वक विचार किया।

यात्रियों को बैठने के लिए पर्याप्त जगह भी नहीं यहां

इस बस अड्डे पर यात्रियों के बैठने के लिए स्थान तक नहीं है, जिससे आए दिन लोगों को परेशान होना पड़ता है। उन्होंने कहा कि बस अड्डा का आधुनिकीकरण होना अथवा व पीपीपी मोड़ पर बनना वर्तमान समय की जरूरत है। इसलिए इस मुद्दे पर प्रमुख राजनीतिक दलों के अलावा सरकार को भी गंभीर होना चाहिए। उन्होंने सरकार से इस मुद्दे पर उचित कार्रवाई करने की मांग की है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams