चुनाव आयोग कभी भी दोनों विधानसभा धर्मशाला और पच्छाद में उपचुनाव की अधिसूचना कर सकता है

अरविंद शर्मा। शिमला
प्रदेश में दो विधायकों के सांसद बनने के बाद दोनों सीटों पर उपचुनाव होगा। दोनों विधायकों किशन कपूर और सुरेश कश्यप ने 5 जून को सचिव विधानसभा का सौंप दिया है और सचिव विधानसभा ने इसकी अधिसूचना भी जारी कर दी है। चुनाव आयोग कभी भी दोनों विधानसभा धर्मशाला और पच्छाद में उपचुनाव की अधिसूचना कर सकता है। लोकसभा चुनावों में कांग्रेस का करारी हार का सामना करना पड़ा था। भाजपा ने उपचुनाव की तैयारियां अभी से ही शुरू दी हैं।

मुख्यमंत्री ने दोनों विस क्षेत्रों में आगाह भी कर दिया है कि भाजपा उसे ही चुनाव मैदान में उतारेगी जो धरातल पर काम कर चुका हो। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कांगड़ा प्रवास के दौरान कहा था कि जनता में पहचान वाले व्यक्ति को ही पार्टी चुनाव में उतारेंगे। संगठन ने कार्यकर्ताओं को बूथस्तर पर काम भी बांट दिए हैं।

वही कांग्रेस पार्टी को अभी प्रदेश में होने वाले इन उपचुनावों की तैयारी के बजाय अभी लोकसभा चुनावों हार के मंथन में ही लगी है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष लोकसभा चुनावों के बाद शिमला के बाहर नही निकल पाए हैं। हालांकि उनके विरोध में भी के कुछ लोग खड़े हो गए है, लेकिन पार्टी में अभी प्रदेश में होने वाले इन उनचुनावों के लिए कोई तैयारी शुरू नही की है।

कांग्रेस के पुराने, भाजपा को नए चहेरों की तलाश

दोनों उपचुनावों में कांग्रेस पुराने ही चेहरों के साथ मैदान में उतरने का मन बना चुकी है। वहीं भाजपा को दोनों विधानसभा क्षेत्रों में नए चेहेरों की तलाश में है। भाजपा के लिए दोनों विस क्षेत्रों में एक अनार सौ बीमार जैसी हालत बनी है। वही लोकसभा चुनावों में कांगड़ा और शिमला में भाजपा उम्मीदवारों की जीत भारी मार्जिन से हुई थी , लेकिन धर्मशाला और पच्छाद में भाजपा का मर्जिन बाकि विस क्षेत्रों के मुकाबले कम ही है। धर्मशाला में तो कांगडा संसदीय क्षेत्र में सब से कम मार्जिन 18685 मतों का रहा है। हालांकि कांगडा संसदीय क्षेत्र में भाजपा से अधिक मतों से जीती हो।

Published by Himachal Dastak

Website Operator : Himachal Dastak Media Pvt.Ltd. Kangra By-Pass Road Kachiyari (H.P.)

Leave a comment

कृपया अपना विचार प्रकट करें