News Flash
bohemia gitta bands show

पुलिस से होशियारी पड़ी महंगी, एसएसपी ने रद की कार्यक्रम की अनुमति

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। धर्मशाला
मशहूर अंतरराष्ट्रीय रैपर बोहेमिया और उनके सहयोगी गित्ता बैंस के लाइव शो पर संकट मंडरा गया है और आशंका है कि यह लाइव शो रद भी हो सकता है, क्योंकि जिस पुलिस मैदान में यह कार्यक्रम आयोजित करवाने के लिए अनुमति मांगी गई थी वह अनुमति पुलिस ने रद कर
दी है। शनिवार दोपहर को लाइव कार्यक्रम होना है और शुक्रवार देर शाम तक आयोजक यह तय नहीं कर पाए हैं कि आखिरकार कार्यक्रम कहां आयोजित करें।

हालांकि आयोजकों के तय कार्यक्रम के मुताबिक सबकुछ ठीक चल रहा था और जैसे-तैसे उन्होंने पुलिस ग्राउंड में 12 जनवरी को कार्यक्रम करवाने की अनुमति भी हासिल कर ली थी, लेकिन जैसे ही एसएसपी कांगड़ा को आयोजकों द्वारा कई तथ्य छिपाने की सूचना मिली तो पड़ताल करने के बाद उन्होंने इस आयोजन की अनुमति रद करना ही बेहतर समझा।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक अविनाश वशिष्ठ निवासी गांव व डाकघर तारागढ़ तहसील भटियात जिला चंबा ने 12 जनवरी शनिवार को पुलिस मैदान में कार्यक्रम की अनुमति मांगी थी। पत्र में उसने जिक्र किया था कि एक एनजीओ के सहयोग से आयोजित किए जा रहे इस कार्यक्रम के द्वारा बेघर बच्चों की मदद की जाएगी। ऐसे में पुलिस ने अनुमति प्रदान कर दी, लेकिन जब सूत्रों से पता चला कि इस आयोजन में विदेशी कलाकार भी भाग ले रहे हैं और काफी संख्या में लोगों के शामिल होने की उम्मीद है।

इस पर कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए आवेदक से इस आयोजन में भाग लेने वाले कलाकारों के नाम पता व यदि कोई विदेशी कलाकार है तो उसके पासपोर्ट व वीजा की छायाप्रतियां, आयोजन में आने वाले श्रोताओं के बारे कानून एवं व्यवस्था, संबंधित विभागों से हासिल किए जाने वाले अनापति प्रमाण पत्रों तथा एनजीओ जो इस आयोजन को करने जा रही है के बारे, एक पत्र लिखकर जानकारी मांगी तो 11 जनवरी को अविनाश वशिष्ठ ने एक शपथ पत्र देकर उपरोक्त पत्र का जवाब दिया, जिसमें बताया कि यह आयोजन फेनोम इंटरप्राइसिस संस्था करवा रही है, लेकिन यह नहीं बतलाया कि इस संस्था को कौन चलाता है, कहां पंजीकृत है तथा इसकी इस संस्था में क्या हैसियत है।

कलाकारों की जानकारी के संदर्भ में इन्होंने सिर्फ कलाकारों के नाम बतलाए, इनका पूरा पता नहीं बतलाया।

पूरा पता न होने के कारण इनका चरित्र सत्यापन करना मुश्किल था। इस पर इन्होंने एक विदेशी कलाकार बोहेमियां (डैविड रीगल) अमरिकी मूल भी भाग लेना बताया, लेकिन उसके पासपोर्ट व वीजा की छायाप्रति उपलब्ध न करवाई।

अपने शपथ पत्र में आयोजन के दौरान भीड़ को 60 बाउंसरों की मदद से नियंत्रण करना बताया, जो कि असामाजिक व गैर कानूनी है। पुलिस के मुताबिक अविनाश वशिष्ठ ने जब इस कार्यालय से इस आयोजन को पुलिस मैदान में आयोजित करने के लिए अनुमति हासिल की थी, तो अपने प्रार्थना पत्र में बहुत सारी बातों को छुपा रखा था। उसने यह नहीं बताया था कि यह एक व्यवसायिक गतिविधि है बल्कि इस गतिविधि को सामाजिक उद्देश्य के लिए बेघर बच्चों की सहायता के लिए आयोजित करने की बात कही थी।

इस कार्यालय से जो अनुमति पहले स्वीकृत की गई थी, उसमें हिदायत दे रखी थी कि यह कार्यालय जब किन्हीं प्रशासनिक कारणों से जरूरी समझें तो इस स्वीकृति को खारिज किया जा सकता है। आवेदक द्वारा सामाजिक आयोजन के स्थान पर व्यवसायिक आयोजन, कलाकारों के बारे में पूरी जानकारी न देना, दस्तावेज उपलब्ध न करवाना, आयोजन के दौरान भीड़ को गैर कानूनी/गैर सामाजिक तरीके से नियंत्रित करने, सूचना को छिपाने जैसै सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए व लोगों की जान माल की सुरक्षा हेतू व कानून व व्यवस्था में किसी व्यवधान उत्पन्न होनी की आशंका को मद्देनजर रखते हुए जो संगीत आयोजन के लिए पुलिस मैदान धर्मशाला को प्रयोग करने की स्वीकृति शनिवार के लिए दी थी उसे जनहित में खारिज कर दिया गया है। एसएसपी कांगड़ा संतोष पटियाल ने इस स्वीकृति को खारिज करने की पुष्टि की है।

सैकड़ों टिकट लेने वालों का क्या होगा

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस कार्यक्रम के आयोजकों ने ऑनलाइन और ऑफलाइन सैकड़ों टिकटों की बिक्री की है। टिकट खरीदने वालों में ज्यादातर बाहरी राज्यों के युवा हैं। ऐसे में यदि ऐन वक्त पर कार्यक्रम रद होता है, तो आयोजकों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। शो देखने आने वाले युवकों द्वारा हंगामा करने के भी पूरे आसार बने हुए हैं। हालांकि अभी तक शो रद करने की पुष्टि आयोजकों द्वारा नहीं की है, लेकिन वह कोई वैकल्पिक स्थान ढूंढने में भी असमर्थ रहे हैं।

यह भी पढ़ें – वक्त के साथ बदली परंपराएं, अब बिलासपुर में नहीं मनाई जाती खोड़ी

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]