News Flash
officers

जयराम सरकार के बचत के फार्मूले को नहीं समझ रहे कुछ अधिकारी

बीवियों के साथ शीतकालीन सत्र के लिए हेलिकॉप्टर में धर्मशाला आए

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। धर्मशाला
सरकार के कुछ अफसरों के शौक उस मुहिम को नहीं अपना पा रहे हैं, जिसके तहत मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सरकारी खर्च कम करना चाहते हैं। विधानसभा के चार दिन के शीतकालीन सत्र की शुरुआत ही फिजूलखर्ची से हुई है। राज्य सरकार के कुछ बड़े नौकरशाहों की गाडिय़ां खाली ही शिमला से धर्मशाला के लिए दौड़ाई गईं, जबकि ये ब्यूरोक्रेट अपनी बीवियों के साथ सरकारी हेलिकॉप्टर में सवार होकर शिमला से धर्मशाला पहुंचे।

सरकारी हेलिकॉप्टर पहले इनको लेकर शिमला से धर्मशाला पहुंचा और फिर मुख्यमंत्री को मंडी से लेकर आया। हिमाचल सरकार पवनहंस हेलिकॉप्टर का प्रयोग करती है। मुख्य रूप से हेलिकॉप्टर सीएम के आवागमन के लिए प्रयोग किया जाता है। इसका किराया प्रति घंटा करीब दो लाख रुपये है। इसमें कुल 26 सीटें होती हैं। सवाल ये है कि जब नौकरशाहों ने शिमला से धर्मशाला के लिए हेलिकॉप्टर में ही रवाना होना था तो अपनी आलीशान सरकारी गाडिय़ां खाली क्यों भेजीं?

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सत्ता में आने के बाद से ही किफायत बरतने की बात कहते आ रहे हैं। हिमाचल में खजाने की दशा किसी से छिपी नहीं है। राज्य पर करीब 47 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है। पैसे बचाने के लिए जयराम सरकार सीपीएस व पीएस की नियुक्तियों से परहेज कर रही है। नए संस्थान खोलने से पहले भी सोचा जा रहा है, लेकिन कुछ अफसर अब भी पुराने मोड में ही हैं।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams