fraud with youth

एनजीओ ने बेरोजगार युवाओं को लगाया लाखों का चूना

  • डेढ़ दर्जन युवाओं ने दर्ज करवाया मामला
  • एक माह से एनजीओ के केंद्रों पर लटके हैं ताले

शमन कुमार। नादौन

पत्रकार व शिक्षक बनाने के नाम पर क्षेत्र की एक संस्था युवाओं से लाखों रुपये की ठगी करके एक माह से फरार है। ऐसे ही पीडि़त करीब डेढ़ दर्जन युवाओं ने इस संबंध में नादौन थाना में शिकायत पत्र देकर मामले की छानबीन करने तथा आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई करने की गुहार लगाई है।

मामले की जानकारी देते हुए नवीन परिहार, पूजा, अनीता, सोनू, पंकज, नीरज, राजेश कौंडल, सुनीता, अशोक, विवेक शर्मा, शोभा ठाकुर, नीरज शर्मा, रमनीत, सविता, सुनील, पूजा कुमारी, शीतल, शशि, शिखा, रितू, अंजना, संदीप, राहुल, गौरव, वंदना रीता आदि ने बताया कि गत एक वर्ष पूर्व शिक्षा वार्ता नामक एनजीओ के कुछ प्रतिनिधियों ने बताया कि केंद्र सरकार की योजना के अंतर्गत नादौन क्षेत्र के युवाओं को रोजगार का सुनहरा अवसर है।

जब वेतन के चैक दिए गए तो वे बाउंस हो गए

उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत विभिन्न पंचायतों में शिक्षा वार्ता के तहत अध्यापक नियुक्त किए जाएंगे। उन्हें झुग्गी झौपड़ी, अन्य पिछड़ा वर्ग तथा दलित समुदाय से जुड़े उन बच्चों को पढ़ाना है, जो या तो स्कूल नहीं जाते या उनके अभिभावक उन्हें स्कूल नहीं भेज नहीं पाते। हैरानी की बात तो यह है कि संस्था ने जब बेरोजगार युवाओं को भर्ती करना आरंभ किया तो उन्होंने प्रत्येक आवेदक से 500 रुपये पंजीकरण शुल्क तथा दो-दो हजार रुपये डीडी द्वारा अतिरिक्त शुल्क वसूला गया। युवाओं ने आरोप लगाया कि इसके बाद इसी संदर्भ में एक अन्य योजना के तहत युवाओं से पांच हजार से चालीस हजार रुपये और वसूले गए। संस्था ने युवाओं को कम से कम 12 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन देने का वादा किया गया।

युवाओं ने बताया कि उन्हें जब वेतन के चैक दिए गए तो वे बाउंस हो गए। विद्यापीठ गरली के छात्र उत्तराखंड निवासी सुनील ने बताया कि उससे भी बीस हजार रुपये करुण ने बताया कि उससे करीब चालीस हजार, पंकज से पच्चीस हजार, बृजमोहन से 18 हजार, मनप्रीत, रमनीत, पूजा व शिल्पा से 15-15 हजार, सोनू व रोहित से दस हजार, पूजा से नौ हजार तथा अजय से पांच हजार अन्य शुल्कों सहित वसूल किए गए हैं। उन्होंने बताया कि संस्था ने नादौन के निकट कलूर गांव में अपना कार्यालय खोला था, जहां परागपुर में रहने वाला विजय कुमार बैठता था।

आरोपियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने व न्याय की गुहार लगाई

संस्था के अध्यक्ष का नाम हेमंता कुमार प्रधान है जो दिल्ली के मायापुरी के कार्यालय में बैठता है। उक्त संस्था एक माह से कलूर कार्यालय को ताला लगा कर फरार है। युवाओं ने आरोपियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने व न्याय की गुहार लगाई है। संस्था के क्षेत्रीय प्रभारी विजय कुमार ने बताया कि यह केंद्र सरकार की योजना है और वह भी इसका कर्मचारी है।

उसने बताया कि 35 लाख का जो चैक दिल्ली से आया था वह बाउंस होने से देरी हुई है और प्रभारी हेमंता प्रधान ने बताया है कि आगामी 17 तारीख तक भुगतान कर दिया जाएगा। उसने बताया कि उसे भी अभी पैसे नहीं मिले हैं। अतिरिक्त थाना प्रभारी नादौन राजेश कुमार ने बताया कि इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया गया है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams