चाइल्ड लाइन टीम के जिला समन्वयक पर है चंबा के लोगों को ज्यादा भरोसा

रियल हीरो

  • समाज के लिए समर्पित कपिल कर रहे हर किसी की तकलीफ दूर
  • बाल विवाह से लेकर यौन शोषण तक के मामले उठा चुका हैं समाजसेवी

सोमी प्रकाश भुव्वेटा। चंबा
जिस तरह से शोले पिक्चर का एक डॉयलॉग का है बीस-बीस कोस दूर जब कोई बच्चा रोता है तो मां कहती है कि बेटा सो ..जा …नहीं दो गब्बर आ जाएगा। उसी तरह चंबा में भी एक अलग तरह का नॉन फिल्मी डॉयलॉग फेमस हो रहा है। जिसका औसतन हर 11वें घर में इस्तेमाल हो रहा है। पति के बार-बार तंग करने पर उसकी पत्नी, स्कूल में मास्टर के आंखें दिखाने पर स्कूली बच्चे, छोटी उम्र में बच्चों का बाल-विवाह करवाने पर उनके पड़ोसी कहते फिर रहे हैं कि मत करों ऐसा नहीं दो हम कपिल शर्मा को शिकायत कर देंगे।

जिले में प्रसिद्ध हो रहा यह डॉयलॉग फिल्मी नहीं, बल्कि पूरी तरह से हकीकत बयां करता है। डॉयलॉग जिसके नाम पर बनाया गया है। उस सख्स का फिल्मी दुनिया से दूर-दूर तक नाता नहीं। पर पूरी तरह से अपने जीवन को समाज पर न्यौछावर कर देने वाला युवा शख्स जिस तरह से काम कर रहा है, उसे हिसाब से समाजिक बदलाव के लिए यह युवा किसी रियल हीरो से भी कम नहीं। क्योंकि आज कल की भागमभाग वाली जिंदगी में हर कोई अपने लिए जीता है, पर विरले ही होते हैं, जो समाज के लिए ही समर्पित रहते हैं।

आज यहां इसी तरह की एक शख्सियत का जिक्र हो रहा है। जनाब ऐसे शख्स हैं जो किसी भी जरूरत मंद व्यक्ति को किसी भी सूरत में तकलीफ में नहीं देख सकते।

असहाय और कमजोर वर्ग के लोगों की अनदेखी तो इन्हें बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं। वैसे जिस तरह का यह काम करते हैं, उस लिहाज़ से तो इन्हें राष्ट्रीय स्तर का कोई बड़ा पुरस्कार अब तक मिल जाना चाहिए था। पर पुरस्कार की लालसा पाले बिना इस शख्सियत का तो एक ही ध्येय है और वह है समाज के दबे-कुचले लोगों के साथ-साथ असहाय लोगों की मदद करना। अब तक न जाने कितने बाल-विवाह रूकवाने में अहम भूमिका निभाने वाले इस शख्स की जितनी तारीफ की जाए वह कम है।

यहां जिक्र चाइल्ड लाइन चंबा के जिला समन्वयक कपिल शर्मा का हो रहा है। चंबा जिले की जनता के लिए कपिल शर्मा किस तरह की शख्सियत हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यदि उन्हें कोई भी परेशानी या फिर समस्या होती है तो पुलिस और प्रशासन से ज्यादा लोग कपिल शर्मा पर ज्यादा भरोसा करते हुए उन्हीं के दफ्तर में दस्तक देते हैं। कयोंकि पीडि़त पक्ष को लगता है कि पुलिस और प्रशासन के पास पहुंचने वाली शिकायत पर अमल देरी होगा। लेकिन, चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक के पास सिफऱ् एक फोन पर एक्शन शुरू हो जाता है।

अगर किसी स्कूल में बच्चे को बेवजह प्रताडि़त किया जाता है तो अभिभावकों को कपिल शर्मा नजर आते हैं। अगर कहीं, बाल मजदूरी करवाई जाते हैं। तो वहां भी कपिल शर्मा को तवज्जों दी जाती है।

बाल शोषण से लेकर यौन शौषण तक के मामलों में पुलिस प्रशासन की बजाय अधिकतर चाईल्ड लाईन के जिला समन्वयक के पास ही इंसाफ की आरजू लिए पीडि़त पक्ष पहुंच रहा है। एकदम निष्पक्ष तरीके से समाजिक बुराइयों का खात्मा करने को तत्पर कपिल शर्मा समाज के हर वर्ग का भरोसा जीतने में कामयाब रहे हैं।

गरीबी की वजह से पढ़ाई बीच में छोडऩे वाले बच्चों का पता चलने पर उन बच्चों की अपने स्तर पर मदद कर उन्हें फिर से स्कूल में प्रवेश दिलवाकर उनका भविष्य संवारने का काम भी कपिल शर्मा बखूबी कर रहे हैं। अगर कोई गरीब परिवार आर्थिक स्थिति कमजोर होने पर अपना ईलाज करवाने में असमर्थ दिखता है तो वहां पर भी कपिल शर्मा उनकी मदद करते हुए नजर आते हैं। यदि किसी बीमार व्यक्ति को इमरजेंसी में खून की जरुरत पड़ती है तो भी कपिल शर्मा तुरंत वहां पर पहुंच जाते हैं। पूरी तरह से समाज के लिए समर्पित कपिल शर्मा से समाज के अन्य लोगों को भी सीख लेने के बेहद जरूरत है।

Published by Himachal Dastak

Website Operator : Himachal Dastak Media Pvt.Ltd. Kangra By-Pass Road Kachiyari (H.P.)

Leave a comment

कृपया अपना विचार प्रकट करें