News Flash
CITU launches attack on Gandhi Chowk, Hamirpur

हजारों मजदूरों ने किया प्रदर्शन, निकाली रोष रैली, केंद्र कीे मोदी सरकार के खिलाफ जमकर की नारेबाजी 

हिमाचल दस्तक। हमीरपुर : सीटू जिला कमेटी हमीरपुर ने केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर 2 दिन की हड़ताल की शुरुआत मंगलवार को हमीरपुर के गांधी चौक से कर दी। हजारों मजदूरों ने प्रदर्शन किया व रोष रैली निकाली। मजदूर कड़कती ठंड के बावजूद भोटा चौक में इक_ा हुए और बाजार से रैली निकालते हुए गांधी चौक पर विशाल सभा की।

इस मौके पर सीटू के राष्ट्रीय सचिव डॉ कश्मीर सिंह ठाकुर, जिला सचिव जोगिंदर कुमार, अध्यक्ष प्रताप राणा, रंजन शर्मा, अनिल मनकोटिया, धर्म सिंह, आंगनबाड़ी जिला सचिव राज कुमारी, मिड-डे मील अध्यक्ष रतन चंद, आशा वर्कर यूनियन के सचिव पूजा आउटसोर्स वर्कर्स के राज्य अध्यक्ष यशपाल सहित मंजना वर्मा सुरेश, विवेक राणा ने संबोधित किया। सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने मोदी सरकार पर जमकर हमले बोले और कहा कि महंगाई से आम आदमी का जीना मुश्किल हो गया है, जबकि मजदूरों की मजदूरी में बढ़ोतरी ना के बराबर है।

उल्टा रोजगार खत्म हो रहे हैं। नोटबंदी के कारण 70 लाख से ज्यादा मजदूरों को रोजगार चला गया और करीब 2 लाख 34 हजार उद्योग धंधे बंद हो गए। केंद्र सरकार ने सामाजिक सुरक्षा पेंशन, प्रोविडेंट फंड, मातृत्व लाभ, मेडिकल लाभ पर भी मजदूर विरोधी परिवर्तन करने का प्रस्ताव किया है । श्रम कानूनों को बदला जा रहा है। जिसका मजदूर वर्ग कड़ा विरोध करता है। यह लाभ व श्रम कानून मजदूरों ने लंबे संघर्षों के बाद हासिल किए हैं।
मजदूरों व कर्मचारियों के लिए बने फंड को सट्टा बाजार में लगाकर उद्योगपतियों को सौंपने का फैसला लिया है। यह मजदूरों व कर्मचारियों के जीवन भर की कमाई को ही दांव पर लगाने वाला कदम है। केंद्र सरकार ने रक्षा, रक्षा उत्पादन समेत सरकारी क्षेत्र के बैंकों बीएसएनएल बीमा रेलवे तेल बिजली ऊर्जा कोयला बंदरगाहों स्टील हवाई अड्डों समेत नवरत्न कंपनियों को भी बेचने का काम किया जा रहा है। केंद्र सरकार योजना कर्मियों आंगनवाड़ी मिड डे मील आशा वर्कर के बजट में भी कटौती कर रही है और अब इसे और कमजोर किया जा रहा है। सीटू की मांग है कि आंगनवाड़ी वर्कर्स मिड डे मील वर्कर्स वह आशा वर्क उसको सरकारी कर्मचारी बनाया जाए ।

मोदी सरकार ट्रांसपोर्ट सेक्टर को भी अब विदेशी कंपनियों के हवाले कर देना चाहती है । इससे करोड़ों लोगों की आजीविका पर असर पडऩे वाला है । केंद्र की मोदी सरकार जनता व मजदूरों पर भारी भरकम हमले कर रही है व इसका लाभ बड़े-बड़े उद्योगपतियों को दिलाया जा रहा है। जनता का बैंकों में जमा पैसा बडे-बड़े उद्योगपतियों द्वारा लूटा जा रहा है व सरकार उन्हें भगाने में मदद कर रही है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams