ashray sharma

पत्रकारों से बातचीत में कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा ने जड़े आरोप

  • कहा, वोटिंग के दौरान ही शुरू कर दिया एग्जिट पोल का प्रसारण
  • मूकदर्शक बना रहा चुनाव आयोग

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। मंडी
मंडी संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा ने कहा कि चुनाव के दौरान सरकारी तंत्र का जमकर प्रयोग होता रहा और चुनाव आयोग मूक दर्शक बना रहा। शिकायतों के बावजूद आयोग ने कोई कार्रवाई नहीं की। आश्रय मंगलवार को मंडी में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उनके साथ पूर्व मुख्य संसदीय सचिव सोहन लाल ठाकुर, मंडी हलके के प्रभारी राजीव गंभीर, संजीव गुलेरिया भी उपस्थित रहे।

आश्रय शर्मा ने कहा कि चुनाव के आखिरी पांच छह दिन में सरकारी तंत्र का जमकर दुरुपयोग हुआ है। इससे चुनाव पारदर्शी नहीं हो पाया। किसी को टेंडर आवंटित किए तो किसी को डराया-धमकाया गया। लोकतंत्र की मर्यादाएं धराशाही हो गईं। लेकिन चुनाव आयोग शिकायतों के बावजूद कार्रवाई नहीं कर पाया। उन्होंने कहा कि मतदान के दिन कई पोलिंग स्टेशनों पर वोटिंग चल रही थी, लेकिन न्यूज चैनलों पर ओपिनियन पोल दिखाना शुरू कर दिया गया। इससे मतदान प्रभावित हुआ है।

उन्होंने कहा कि कई जगहों पर उनके पोलिंग एजेंटों को बूथों में जाने नहीं दिया गया। क्योंकि फार्म पर अधिकारियों के हस्ताक्षर समय पर नहीं हो पाए। इससे 40 से 50 बूथों पर उनका मतदान प्रभावित हुआ। चुनाव आयोग ने कई जगह से उनके होर्डिंग्स उतार दिए, जबकि भाजपा के होर्डिंग्स नहीं हटाए। इससे स्पष्ट है कि यह चुुनाव पूरी पारदर्शिता के साथ नहीं करवाया गया।

सराज में हुई बूथ कैप्चरिंग

आश्रय शर्मा ने आरोप लगाया कि इस चुनाव में सराज में भारी मतदान हुआ है। लेकिन इसके साथ ही वहां पर बूथ कैप्चरिंग की गई है। इसकी भी जांच होनी चाहिए। इसके बारे चुनाव आयोग को तथ्यों के साथ शिकायत प्रेषित की जाएगी।

आईपीएच मंत्री ने दिए प्रलोभन

आश्रय शर्मा ने आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर पर आरोप लगाया कि वे सदर विधानसभा क्षेत्र में आकर कई लोगों को पाइपें, टैंक बांटने के आश्वासन देते रहे और कई ठेकेदारों को प्रलोभन दिए गए। जिससे यह चुनाव काफी प्रभावित हुआ। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी की सुंदरनगर की रैली को लेकर ग्राउंड क्लीयरेंस के लिए उन्हें काफी प्रयास करने पड़े। एसपी की भूमिका एकतरफा रही। इससे भी उन्हें दिक्कतें उठानी पड़ीं। उन्होंने कहा कि उनके पास सारे डाक्यूमेंट्री पू्रफ हैं, अब इन शिकायतों पर जांच मांगी जाएगी।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams