congress

भाजपा का काफी समय डैमेज कंट्रोल और सफाइयां देने में ही लगा है और अभी भी लग रहा है

राजीव भनोट। ऊना

नामांकनों का दौर शुरू हो गया है। प्रचार चरम पर पहुंच रहा है। कौन किससे आगे है या पीछे है, यह एक अलग कहानी है। लेकिन एक बात जरूर है कि कांग्रेस ने हर जगह न सही लेकिन मंडी और हमीरपुर संसदीय हलकों में तो भाजपा को परेशान कर रखा है। मनोवैज्ञानिक दबाव जोरों पर है। भाजपा का काफी समय डैमेज कंट्रोल और सफाइयां देने में ही लगा है और अभी भी लग रहा है। सबसे पहले मंडी की बात करें तो यहां ऐसा उलटफेर हुआ है, तो अपने आपमें अभूतपूर्व कहा जा सकता है।

कैबिनेट मंत्री बाहर हुआ और बात यहीं नहीं रुकी। शब्दां के बाण निरंतर छोड़े जा रहे हैं। मुख्यमंत्री का गृह जिला है सो मामला और भी गंभीर हो जाता है। आलम यह है कि सीएम समेत तमाम बड़े नेताओं को मंडी से बाहर भी मंडी की बात करनी पड़ रही है। मंडी में तीखा जख्म जयराम सराकर के मंत्रिमंडल से ही अनिल शर्मा के घर में सेंध लगाकर कांगे्रस ने दिया है। उनके बेटे को कांग्रेस का टिकट दिया गया। सुखराम ने फिर कांग्रेस का दामन थामा और अनिल शर्मा ने त्यागपत्र भी देकर मुख्यमंत्री के सलाहकार पर तीखी टिप्पणियां कीं। इसके बाद मंडी में डैमेज कंट्रोल में मुख्यमंत्री खुद जुटे।

हालात को फिर आगे बढ़ाया तो वहीं कांग्रेस को एकाएक प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतपाल सत्ती की टिप्पणियों से मैदान में उतरने का मौका मिल गया। आक्रामक हुई कांग्रेस ने खूब होहल्ला किया। इस मसले पर चुनाव आयोग की कार्रवाई और भाजपा की रक्षात्मक कार्रवाई ने भाजपा के प्रचार को कुछ पीछे कर दिया। अब हमीरपुर में कांगे्रस ने भाजपा के दिग्गज नेता, दो बार प्रदेशाध्यक्ष और तीन बार सांसद रहे सुरेश चंदेल को कांग्रेसी बना दिया। यह एक नया मनोवैज्ञानिक दबाव है।

भाजपा नेताओं को फिर सफाई देनी पड़ रही है। नुकसान या फायदा क्या होगा यह तो वक्त बताएगा। लेकिन भाजपा नेता यहां तय नहीं कर पा रहे हैं कि किया क्या जाना चाहिए। मुख्यमंत्री का मानना है कि चंदेल के जाने से कोई नुकसान नहीं है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल कहते हैं कि कोई कार्यकर्ता जाता है तो नुकसान तो होगा ही। लब्बोलुआब यह है सायास हो या अनायास कांग्रेस ने इन दो लोकसभा सीटों पर तो भाजपा के सिर में दर्द कर रखा है। यह मनोवैज्ञानिक दबाव क्या रंग लाएगा, यह तो वक्त बताएगा, लेकिन दबाव तो है…

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams