News Flash
mukesh agnihotri

कहा, स्वागत में हिमाचल का हक मांगना भूल गए मुख्यमंत्री

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। ऊना

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा हिमाचल प्रदेश को औद्योगिक पैकेज के साथ-साथ आर्थिक पैकेज भी न देने पर कड़ा एतराज जताते हुए पीएम के हिमाचल दौरे को केवल पॉलिटिकल एजेंडा करार दिया है। अग्निहोत्री ने इन्वेस्टर मीट के पहले दिन प्रधानमंत्री के संबोधन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि मोदी हिमाचल को खाली हाथ रख गए हैं। इसका दोष मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व उनकी टीम को जाता है। जब मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व मंत्री बिक्रम ठाकुर ने अपने संबोधन में प्रधानमंत्री के समक्ष हिमाचल की मांग और पीड़ा को रखा ही नही, तो प्रधानमंत्री भी जुमलेबाजी करके निकल गए।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री दूसरी बार धर्मशाला आए और दोनों बार हिमाचल को धोखा देकर गए हैं। रेल मार्गों पर भी प्रधानमंत्री झूठ पर झूठ बोलकर गए हैं। मुकेश ने कहा कि एयर कनेक्टिविटी की बात उद्योगपतियों ने भी कही है, लेकिन हिमाचल प्रदेश में तीनों हवाई पट्टियों का विस्तार 2 वर्षों में हो नहीं पाया है। मोदी ने इन हवाई पट्टियों के विस्तार के लिए कोई धन उपलब्ध नहीं करवाया है।

मंडी में नया हवाई अड्डा बने, इसके लिए काम होना चाहिए, लेकिन हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में हवाई अड्डे की संभावनाओं को तलाशा जाना चाहिए, इसकी मांग हमने पहले भी उठाई है। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि इन्वेस्टर मीट में भाजपा अपने वरिष्ठ नेता का सम्मान करना भी भूल गई। मंच पर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार को स्थान ही नहीं मिल पाया। प्रेम कुमार धूमल कार्यक्रम में आए ही नहीं जो साबित करता है कि भाजपा किस प्रकार से अपने वरिष्ठ नेताओं को भी भूल रही है।

kuldeep rathore

पीएम ने हिमाचल के लोगों को किया निराश: कुलदीप राठौर

विशेष आर्थिक सहायता न मिलने को बताया झटका

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस ने धर्मशाला में आयोजित इन्वेस्टर्स मीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से राज्य के लिए विशेष आर्थिक पैकेज न देने पर घोर निराशा जताई है। कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा है कि उन्हें खुशी होती अगर प्रधानमंत्री प्रदेश की बिगड़ती अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कोई राहत पैकेज की घोषणा करते। उन्होंने कहा की मोदी सरकार के शासन काल मे केंद्र से प्रदेश को कोई भी विशेष आर्थिक सहायता आज दिन तक उपलब्ध नही हो पाई है। प्रदेश सरकार अपने खर्चे चलाने के लिये हर माह कर्ज ले रही है। अब तक यह कर्जा 50 हजार करोड़ के आसपास हो गया है।

कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि धर्मशाला में आयोजित इस इन्वेस्टर्स मीट के दौरान उन्हें ओर प्रदेश के लोगों को उम्मीद थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रदेश को किसी बड़े आर्थिक पैकेज या प्रदेश के विकास के लिए कोई बड़ी घोषणा करेंगे, पर वह उम्मीद धरी की धरी रह गई। प्राय: देखा गया है कि जब भी प्रधानमंत्री किसी राज्य के दौरे पर जाते है तो वहां उस राज्य को कुछ न कुछ आर्थिक प्रोत्साहन देकर आते है पर प्रधानमंत्री ने हिमाचल के लोगों को निराश किया है। राठौर ने कहा कि प्रदेश में उद्योगों की स्थिति कुछ ज्यादा बेहतर नही है। इन उद्योगों के विकास के लिए राहत उपायों की बहुत जरूरत है।

उन्होंने कहा की धर्मशाला में आयोजित इन्वेस्टर्स मीट के सार्थक परिमाण तभी आ सकते है जब इन्हें कोई प्रोत्साहन दिए जाएंगे। वहीं, नगर निगम शिमला के कांग्रेस पार्षद और शहरी शिमला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों की बैठक शुक्रवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में होगी जहां, शिमला में होने वाली 14 नवंबर की विरोध रैली के आयोजन को अंतिम रूप दिया जाएगा।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]