country future begging

आस्था के नाम पर परिजन बच्चों से मंगवा रहे भीख

भिक्षावृत्ति उन्मूलन एक्ट की उड़ रही धज्जियां

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। हमीरपुर

नेताओं की जुबां से कई बार सुनने को मिलता है कि बच्चे देश का भविष्य है। मगर दर-दर भटक कर भीख मांग रहे इन नौनिहालों को शिक्षा की ओर ले जाने के कदम न तो प्रशासन ने उठाए और न ही नेताओं ने। केवल भाषण एक जनसभा या अधिकारियों की बैठक तक ही सीमित रह गया है। भीख मांगते नौनिहालों की कैमरे में कैद तस्वीरों ने केंद्र सरकार द्वारा चलाई गई मुफ्त शिक्षा अभियान हमीरपुर में कहां तक चलाया जा रहाहै इसकी पोल खुलकर सामने आ गई है।

आस्था के नाम पर बच्चों के ही परिजन इनसे भीख मंगवा रहे हैं। परिजनों को भी जागरूक करने में संबंधित विभाग नाकाम साबित रहा है। गौर है कि डाईट नादौन ने सर्व शिक्षा अभियान के तहत इन बच्चों को दी जाने वाली मुफ्त शिक्षा से संबंधित स्कूल मुख्याध्यापकों को दिशा निर्देश जारी किए हैं। आदेशों में कहा गया है कि अगर कोई भी प्रवासी बच्चे भीख मांगते, मजदूरी करते, ढाबों में काम कर रहे है तो ऐसे बच्चों को शिक्षा दिलवाने के लिए उनके परिजनों को जागरूक किया जाए। मगर ऐसे नहीं हो रहा है।

जोर जबरदस्ती कर लोगों की जेबों से पैसे निकालने को विवश कर रहे

हमीरपुर में दर-दर भटक कर बच्चे भीख मांग रहे हैं। वहीं जिला में भीक्षावृत्ति उन्मूलन एक्ट की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। वहीं प्रशासन भी मां-बाप की मौजूदगी में भीख मांग रहे देश के भविष्य को यूं देख आंखें बंद कर बैठा है। हमीरपुर नगर में पिछले एक माह से यह बच्चे लोगों के दरबार भीख मांग रहे हैं और जोर जबरदस्ती कर लोगों की जेबों से पैसे निकालने को विवश कर रहे हैं।

इन मासूम बच्चों पर न तो किसी समाज सेवी संगठन ने इस तरफ ध्यान दिया और न ही प्रशासन की नजरों में बाल भिखारी पकड़ में आए हैं। पढ़ाई की उम्र में कमाई करने को मजबूर बचपन को परिजनों द्वारा जबरदस्ती भीख के धंधे में झोंके जाने से समाज भी शर्मसार है। उधर पुलिस अधीक्षक रमन कुमार मीणा ने कहा कि इस संबंध में संबंधित विभाग को सख्त दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। अगर कोई भी बच्चों से भीख मंगवा रहे तो उन्हे मुख्यधारा में लाया जाए।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams