drawing physical teachers

राजकीय अध्यापक संघ ने युक्तिकरण प्रक्रिया का किया विरोध

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
प्रदेश के स्कूलों में शारीरिक और ड्राइंग शिक्षकों के पदों पर संकट आ गया है। राजकीय अध्यापक संघ ने इनकी युक्तिकरण प्रक्रिया का किया विरोध जताया है। हिमाचल राजकीय अध्यापक संघ प्रदेश सरकार द्वारा राजकीय माध्यमिक विद्यालयों से युक्तिकरण के नाम पर ड्रांइग व शारीरिक शिक्षकों के पदों को खत्म करने के उस फरमान का विरोध करता है जिसमें कहा गया कि प्रदेश के उन राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में जहां पर विद्यार्थियों की कुल संख्या 100 से कम है ड्रांइग व शारीरिक शिक्षकों का युक्तिकरण के तहत उच्च व वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में रिक्त पदों पर स्थांनतरण करने के आदेश हैं।

संघ सरकार व शिक्षा विभाग से मांग करता है कि इन आदेशों को रद्द किया जाए। जब मिडल स्कूलों में ड्रांइग व शारीरिक शिक्षकों के पद नहीं रहेंगे तो इन विद्यालयों शिक्षा प्राप्त कर रहे लाखों विद्यार्थी ड्रांइग व शारीरिक शिक्षा ग्रहण करने से वंचित रह जाएंगे। इस तरह संघ शिक्षा विभाग द्वारा किए जा रहे शिक्षकों के युक्तिकरण के लागू करने के उस नियम को लेकर आपत्ति जताता है जिसमें एक जैसे पदों पर तैनात अनुबंध व नियमित अध्यापकों में से केवल नियमित अध्यापकों का ही युक्तिकरण किया गया है।

किसी पाठशाला से शिक्षकों के युक्तिकरण के समय नियमित अध्यापकों का सिनियर इन स्टे को आधार बनाया गया है चाहे उस अध्यापक का तबादला रिमोट, हार्ड व ट्राइवल एरिया से चंद महीनों पहले हुआ हो । संघ सरकार व शिक्षा विभाग से मांग करता है कि युक्तिकरण के समय केवल सिनियर इन स्टे को आधार बनाया जाए और अनुबंध व नियमित अध्यापकों पर युक्तिकरण समान रूप से लागू किया जाए ।

प्रदेश में ऐसी ही स्थिती

संघ ने साफ किया है कि इस समय प्रदेश में सरकारी मिडल स्कूलों की संख्या 2250 है जिसमें से केवल 27 मिडल स्कूल ऐसे हैं जहां विद्यार्थियों की संख्या 100 से अधिक है इससे पता चलता है कि प्रदेश में इस आदेश के तहत 2223 मिडल स्कूलों में ड्रांइग व शारीरिक शिक्षा पर सरकार गंभीर नहीं है।

रिपोर्टर – दीपिका

यह भी पढ़ें – कंप्यूटर सिखना है तो करें डायॅक में आवेदन

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams