first day assembly session

लाइन में लगने के बावजूद कई लोगों के नहीं बने पास, मायूस होकर लौटे

लोगों में खूब हुई धक्का-मुक्की

राज शर्मा, तपोवन
विधानसभा भवन तपोवन में शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन अव्यवस्था हावी रही। विधानसभा सत्र के दौरान सीएम, मंत्रियों व विधायकों से मिलने आए कई लोगों को अव्यवस्था के चलते बिना मिले ही वापस लौटना पड़ा। सुबह से ही लोग विधानसभा भवन के बाहर प्रवेश पत्र बनाने के लिए स्थापित कक्ष के बाहर जुटना शुरू हो गए थे। मौके पर मौजूद लोगों का कहना था कि पहले ही दिन अव्यवस्थाओं से काफी परेशानी हो रही है।

प्रवेश पत्र कक्ष के बाहर ज्यादा भीड़ जमा होने के चलते एक-दूसरे को धक्के लग रहे थे। ऐसे में कुछ लोगों में मामूली कहासुनी भी हुई, जिसके बाद पुलिस कर्मियों को मोर्चा संभालना पड़ा। पहले तो पुलिस कर्मी सुरक्षा के लिहाज से किनारे खड़े थे, लेकिन जैसे ही पास बनवाने के लिए धक्का-मुक्की होने लगी तो पुलिस जवानों में भीड़ को नियंत्रित करते हुए जहां लाइनें लगवाई, वहीं बारी-बारी से लोगों को काउंटर के पास भेजा। उसके बाद कुछ स्थिति सुधरी। पास बनाने वाली जगह पर ज्यादा भीड़ के चलते कनेड से आई वृद्धा वापस लौट गई।

परेशानी झेलने वाले लोगों में पास बना रहे कर्मियों में प्रति रोष पनपने लगा था

वृद्धा ने बताया कि पूर्व सरकार के समय सीएम से गुहार लगाने के बाद ही उसे पेंशन लग पाई थी। उन्होंने बताया कि गांव में पता चला था कि नई सरकार के सीएम और मंत्री सत्र के लिए यहां पधारे हैं, इसलिए वह उनसे मिलने आई थी, लेकिन ज्यादा भीड़ होने के चलते वह वापस लौट रही है। वहीं लाठी लिए सरकार से मिलने पहुंचा एक बुजुर्ग काफी समय तक पास बनाने के लिए यहां-वहां भटकता रहा।

भीड़ अधिक होने के चलते बुजुर्ग आगे नहीं जा पा रहा था, काफी मशक्कत के बावजूद जब बुजुर्ग को लगा की पास बनना मुमकिन नहीं है तो बुजुर्ग ने वापस लौटना ही बेहतर समझा। लाइनों में खड़े लोग बाहर से ही अंदर पास बन रहे कर्मचारियों से पूछते नजर आए कि पास बनने भी हैं या नहीं। न काफी समय तक लाइनों में खड़ होकर परेशानी झेलने वाले लोगों में पास बना रहे कर्मियों में प्रति रोष पनपने लगा था।

तपोवन विधानसभा परिसर के बाहर जंगल में स्थित चाय की दुकानों के आसपास फैली गंदगी ने स्वच्छता अभियान की भी पोल खोलकर रख दी है। चाय की दुकानों में डिस्पोजल कप चाय के लिए इस्तेमाल हो रहे हैं। दुकानों के बाहर उन्हें एक जगह रखने की कोई व्यवस्था न होने के चलते इन दुकानों पर चाय पीने वाले लोग कपों को इधर-उधर फंेककर स्वच्छता अभियान को ठेंगा दिखा रहे हैं।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams