News Flash
Do not make yourself a law;

एडवोकेट चैंबर ऑडिटोरियम के शुभारंभ पर बोले जस्टिस कूरियन,  चैंबर निर्माण के लिए धूमल और वीरभद्र के योगदान को याद किया

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत न्यायाधीश कुरियन जोसफ ने हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट एडवोकेट चैंबर के ऑडिटोरियम का उद्घाटन किया। हाईकोर्ट एडवोकेट वेलफेयर एंड चेरीटेबल सोसाइटी द्वारा बनाया गया विधि निकुंज का शिलान्यास भी न्यायाधीश कुरियन जोसफ ने ही रखा था। उस समय वे हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे।

विधि निकुंज में ऑडिटोरियम हॉल का निर्माण भी किया गया है जिसका नाम कुरियन हॉल रखा गया है। न्यायाधीश कुरियन जोसेफ ने अपने संबोधन में चैंबर निर्माण के दौरान रहे प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल और वीरभद्र सिंह के योगदान की सराहना की। वकीलों के पूर्ण सहयोग से बने चैंबर भवन में आई अड़चनों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि मनुष्य के लिए कुछ भी असंभव नहीं होता बशर्ते नियत साफ व मन दृढ़ हो।

उन्होंने कहा कि वकीलों के सहयोग के बिना उत्तम न्याय निष्पादन नहीं हो सकता। न्याय प्रदान करने के लिए न्यायपालिका का स्वतंत्र होना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि वकीलों को गलत के खिलाफ खड़े होकर आवाज उठानी चाहिए और जजों को भी चाहिए कि वे खुद को कानून न समझें बल्कि कानूनन न्याय देने वाला समझे।

इस अवसर पर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश सूर्यकांत, न्यायाधीश तरलोक सिंह चौहान, न्यायाधीश सुरेश्वर ठाकुर, न्यायाधीश विवेक सिंह ठाकुर, न्यायाधीश अजय मोहन गोयल, न्यायाधीश संदीप शर्मा, न्यायाधीश चंद्रभूषण बारोवालिया, महाधिवक्ता अशोक शर्मा, हाई कोर्ट एडवोकेट वेलफेयर एंड चेरीटेबल सोसाइटी के चेयरमैन श्रवण डोगरा, असिस्टेंट सॉलिसिटर जनरल राजेश शर्मा, हाई कोर्ट में तैनात न्यायिक अधिकारी व हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के सदस्य उपस्थित थे।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams


[recaptcha]