Do research on natural farming and scientific

नौणी विवि सीनेट की 15वीं बैठक में राज्यपाल ने किया आह्वान , जीरो बजट प्राकृतिक खेती पर दिया जोर

हिमाचल दस्तक। नौणी : राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने डॉ. यशवंत सिंह परमार बागवानी एवं वानिकी विश्वविद्यालय नौणी की सीनेट की 15वीं बैठक की अध्यक्षता करते हुए वैज्ञानिकों से प्राकृतिक खेती पर सघन अनुसंधान करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि वैज्ञानिकों को रासायनिक खेती के दुष्प्रभावों का एहसास होना चाहिए और जीरो बजट प्राकृतिक खेती में योगदान देना चाहिए। उन्होंने इस दिशा में गहन अनुसंधान करने का आग्रह किया तथा प्रदेश सरकार के प्राकृतिक खेती मिशन में सहयोग करने को कहा। उन्होंने कहा कि भारतीय अनुसंधान परिषद के महानिदेशक ने आश्वस्त किया है कि जीरो बजट प्राकृतिक खेती से संबंधित परियोजनाएं स्वीकृत की जाएंगी। परिषद ने यह भी आश्वासन दिया है कि प्राकृतिक खेती पर शोधकार्य किया जाएगा।

राज्यपाल ने कहा कि कृषि क्षेत्र में विकास वैज्ञानिकों की सहायता के बिना संभव नहीं है। प्राकृतिक खेती अपनाते समय वैज्ञानिकों को और अधिक कार्य तथा भारतीय बीजों को तैयार करने, जैविक कार्बन विश्लेषण तथा मित्रजीव और लाभप्रद कीटों पर अनुसंधान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमने रासायनिक व जैविक खेती के परिणाम देखे हैं और अब हमारे पास प्राकृतिक खेती का विकल्प है जो व्यवहारिक है और इससे बेहतर परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि कृषि वैज्ञानिकों ने अनुसंधान डाटा उपलब्ध करवाकर सिद्ध कर दिया है कि प्राकृतिक खेती ही श्रेष्ठ है।

 

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams