indra singh

कहा प्रदेश में पहले से सबसे ज्यादा 80 प्रतिशत कर्मचारी, नई भर्तियां हम नहीं कर सकते

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। धर्मशाला
राज्यपाल के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा करते हुए विधायक इंद्र सिंह ने कहा कि सरकार के पास पैसा नहीं है। विभागों में स्टाफ की कमी है। प्रदेश में पहले से सबसे ज्यादा 80 प्रतिशत कर्मचारी है। नई भर्तियां हम नहीं कर सकते। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश में सिंचाई व्यवस्था के लिए पूर्व कांग्रेस सरकार ने कोई प्रयास नहीं किए। प्रदेश में सड़कों की हालत खस्ता है। ग्रामीण क्षेत्रों के अस्पतालों में डॉक्टर नहीं हैं। प्रदेश में शिक्षा के साथ खिलवाड़ हुआ है।

पैसा मिलने के बाद भी प्रदेश में किास क्यों नहीें हुआ। पूर्व सरकार ने जो भी किया उसकी सूची सदन में रखी जाए, क्योंकि यह चिंता का विषय है। विधायक सुखराम ने कहा कि प्रदेश में औद्योगिक नीति का संधिकरण किया जा रहा है। वहीं, विधायक हर्ष बर्धन ने कहा कि बेहतर होता भाजपा सरकार सत्ता के पांच साल के बारे में सोचे, अगर प्रदेश में पूर्व में रही भाजपा सरकार ने कार्य किए होते जो चुनावों में भाजपा के दिगज नेताओं को हार का मुंह नहीं देखना पड़ता।

हम प्रदेश के हर क्षेत्र से राजस्व बढ़ाने का प्रयास करेंगे

उन्होंने कहा आज प्रदेश में शिक्षा का स्तर 88 प्रतिशत पहुंच चुका है। ग्रामीण स्तर तक के बच्चे शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश विकास के मामले में कैसे आगे बढ़े यह सत्तापक्ष के साथ विपक्ष की भी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि गुडिय़ा योजना व होशियार हेल्पलाइन आखिर है क्या। सरकार ने अभी योजनाएं भी नहीं बनाई और उनके नाम सामने रख दिए।

विधायक राकेश सिंघा ने कहा कि किसानों की भूमि को नियमित करने का मुद्दा उठाया गया। विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा कि ऐसा नहीं है भाजपा के पास संसाधन नहीं हैं। हम प्रदेश के हर क्षेत्र से राजस्व बढ़ाने का प्रयास करेंगे। उन्होने कहा कि अगर कांग्रेस सरकार 19 हजार करोड़ के ऋण का सही उपयोग करती तो अच्छा होता।

खजाना खाली था तो आप यहां क्यों आए

विधायक जगत सिंह नेगी ने कहा कि अगर आपको पता था खजाना खाली है तो आप यहां क्यों आए कांग्रेस को कही सत्ता में रहने देते। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून की बात करने वाले पहले सरकार उन लोगों पर कार्रवाई करे, जिन्होंने कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में उद्घाटन पट्टिकाओं को तोड़ा। उन्होंने कहा कि भाजपा की करनी और कथनी में हमेशा अंतर रहा है। पूर्व कांग्रेस सरकार ने 1500 सिंचाई योजनाएं बनाकर केंद्र को भेजी, लेकिन केंद्र की मोदी सरकार ने उन्हें नजरअंदाज कर दिया। नोटबंदी के कारण लोगों की जाने चली गई, जबकि जीएसटी के कारण आम लोगों पर मार पड़ी।

आखिरी दिन, धन्यवाद प्रस्ताव आएगा

शुक्रवार को विधानसभा के शीतकालीन सत्र का आखिरी दिन होगा। इसमें राज्यपाल अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव आएगा। अभिभाषण पर सदन में दो दिन तक चर्चा हुई है। चार दिन के इस सत्र में कार्य कम थे, क्योंकि विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव होना था। अभिभाषण पर चर्चा की शुरुआत नूरपुर के विधायक राकेश पठानिया ने की, जबकि इसका समर्थन सरकाघाट से विधायक कर्नल इंद्र सिंह ने किया था। इस चर्चा में करीब 20 विधायक हिस्सा लेंगे।

परिचय में भी अबसेंट थे अनिल

धर्मशाला। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने वीरवार को सदन की कार्यवाही शुरू होने पर अपनी मंत्रि परिषद का परिचय भी करवाया। इस दौरान ऊर्जा मंत्री अनिल शर्मा सदन में ही नहीं थे। सीएम ने उनकी सीट खाली देखकर कहा कि वह अभी यहां नहीं हैं। विपक्ष की ओर से मुकेश अग्रिहोत्री बोल पड़े-कोई बात नहीं, वो हमारे जाने पहंचाने हैं। इस पर ठहाके भी लगे। बाद में जब वह आए तो सीएम ने दोबारा से उनका परिचय करवाया।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams