News Flash
dw negi

पहले पुलिस कस्टडी में सूरज की मौत पर जेल गए

अब भर्ती घोटाले में विभागीय जांच की फाइल खुली

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के खासमखास पुलिस अफसर कहे जारने वाले शिमला के पूर्व एसपी डीडब्ल्यू नेगी की मुश्किलें हर दिन बढ़ती जा रही है। पहले अपनी सरकार के अंतिम दौर में गुडिय़ा प्रकरण से जुड़े सूरज की पुलिस लॉकअप हत्या मामले में जेल चले गए और अब पूर्व सरकार के कार्यकाल में हुई पुलिस कांस्टेबल भर्ती में नेगी बुरे फंसते नजर आ रहे हैं। हालांकि डीडब्ल्यू नेगी इन पिछले करीब 8 महीने से जेल में बंद हैं और न्यायिक हिरासत में चल रहे हैं। इस बीच उनकी राह में एक और मुसीबत खड़ी हो गई है।

जो पूर्व की कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान पुलिस कांस्टेबल भर्ती में अनियमित्ताओं को अंजाम दिए जाने का आरोप है। वर्ष 2016 में हुई हिमाचल पुलिस कांस्टेबल भर्ती के तहत बरती गई अनियमिताओं की जांच पूरी होने के बाद जांच रिपोर्ट पुलिस विभाग ने सरकार को सौंप दी है। गृह विभाग के माध्यम से यह रिपोर्ट सरकार को सौंपी गई है। सूत्रों के अनुसार विभागीय जांच रिपोर्ट के माध्यम से भर्ती प्रकिया से जुड़े कुछ तात्कालीन अधिकारियों को चार्जशीट किए जाने की सिफारिश भी की गई है।

सूत्रों की माने तो भर्ती के तहत छोटे कद वाले उम्मीदवारों को लंबाई ज्यादा दर्शाई गई। यहां तक कि न्यूनतम शारीरिक मापदंड पूरा न करने के बावजूद कुछ उम्मीदवारों को न सिर्फ भर्ती परीक्षा में पास करवाया, बल्कि ट्रेनिंग के बाद उनकी नियुक्ति तक हो गई। सूत्रों के अनुसार करीब 3 जिलों में अनियमिताएं बरते जाने के तथ्य सामने आए है। इनमें शिमला, ऊना और सोलन शामिल बताए जा रहे हैं। ऐसे में भर्ती प्रकिया से जुड़े कुछ तात्कालीन अधिकारियों पर गाज भी गिर सकती है। इस केस में हाईकोर्ट ने जिम्मेदारी अधिकारियों पर कार्रवाई के आदेश दिये हैं।

अभी तक अंतिम दो साल की खुल रही परतें

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के करीबी अफसर रहे एवं जेल में बंद पूर्व एसपी डीडब्ल्यू नेगी के खिलाफ जो परतें खुल रही हैं वह सिर्फ अंतिम दो साल की हैं। यानी वर्ष 2016 में पुलिस कांस्टेबल भर्ती में अनियमित्ताएं और 2017 में गुडिय़ा प्रकरण में सूरज की पुलिस लॉकअप में हुई हत्या। हालांकि सूरज हत्या मामले में नेगी सहित पूर्व आईजी जहूर जैदी सहित 8 पुलिस वाले जेल में बंद हैं।

रिपोर्टर-आरपी नेगी

यह भी पढ़ें – हमीरपुर पुलिस को बड़ी कामयाबी

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams