News Flash
imprisonment rape accused

15 हजार जुर्माना, 25 हजार रुपये पीडि़ता को देने होंगे

2018 में नाबालिग सौतेली बहन से किया था दुराचार

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। धर्मशाला
नाबालिग सौतेली बहन से दुष्कर्म करने के आरोपी पर दोष सिद्घ होने पर न्यायालय ने चार साल की कठोर कारावास की सजा सुनाई है।
वहीं दोषी को 15 हजार रुपये जुर्माना भी भरना होगा, जबकि 25 हजार रुपये नाबालिग पीडि़ता को बतौर राहत राशि के देने होंगे। यह सजा विशेष न्यायाधीश जेके शर्मा की अदालत ने मंगलवार को सुनाई।

मामले की जानकारी देते हुए जिला न्यायवादी राजेश वर्मा ने बताया कि पुलिस थाना बैजनाथ में 12 अप्रैल, 2018 को एक नाबालिग लड़की ने अपने चचरे भाई पर जंगल में दुष्कर्म करने का आरोप जड़ा था।

नाबालिग पीडि़ता ने पुलिस के समक्ष बयान दर्ज करवाया था कि वह जंगल में लकडिय़ां लाने गई थी। इस दौरान उसका सौतेला भाई भी जंगल में मौजूद था। इस दौरान उसने उसे अकेला पाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। वहीं थाना में मामला दर्ज होने पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

इसके बाद पीडि़त नाबालिग के साथ मौके का जायजा भी लिया और दोनों का मेडिकल करवा करवाया गया, जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि हुई थी। उन्होंने बताया कि इस मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से 17 गवाह पेश किए। वहीं पुलिस के जुटाए गए साक्ष्यों और मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर विशेष न्यायाधीश जेके शर्मा की अदालत ने दोषी युवक को चार वर्ष की कठोर कारावास व 15 हजार रुपये जुर्माने के अलावा 25
हजार रुपये पीडि़ता को देने की सजा सुनाई।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams