stop efforts build airport

बल्ह में हिमाचल बचाओ संघर्ष मोर्चा ने जताया विरोध

  • हजारों बीघा उपजाऊ भूमि घटने से कृषि उत्पाद पर आएगा संकट

हिमाचल दस्तक। मंडी
हिमाचल बचाओ संघर्ष मोर्चा ने आरोप लगाया है कि सांसद, मंत्री व विधायक लगभग 20 साल से मंडी के तराई वाले भू-क्षेत्र में हवाई अड्डे के निर्माण के बारे में भारत उड्डयन मंत्रालय की टीम के दौरे तब करवाते हैं, जब कोई संसदीय या विस चुनाव नजदीक आते है। मंडी के बल्ह में प्रदेश सरकार के सहयोग से उड्डयन मंत्रालय नई दिल्ली की संयुक्त टीम ने बग्गी, ढाबण, कुम्मी, कनैड, दियारगी व चुनाहन पंचायतों के उपजाऊ भू-क्षेत्र को समतल बनाकर हवाई अड्डे के निर्माण को उपयुक्त स्थान माना है।

मोर्चा का कहना है कि स्थानीय निवासी हवाई अड्डे के निर्माण के लिए भूमि देने से इंकार कर रहे हैं। साथ ही लोगों ने चेतावनी दी कि यदि सरकार, राजस्व विभाग या कोई पंचायत प्रतिनिधि हवाई अड्डे के निर्माण के लिए भू-अधिग्रहण के अनापति प्रमात्र पत्र देते हैं, तो इन पंचायतों की समस्त जनता सड़कों पर उतरकर विरोध करेगी। अपनी उपजाऊ भूमि बचाने के लिए हाईकोर्ट में न्याय की गुहार लगाएगी।

मोर्चा के अध्यक्ष लक्ष्मेंद्र गुलेरिया ने सरकार के साथ-साथ उड्डयन मंत्रालय के अधिकारियों से आग्रह किया है कि जनहित के लिए वे बल्ह में हवाई अड्डे के निर्माण के लिए कोशिशें बंद कर दें, क्योंकि उपजाऊ भूमि होने के साथ-साथ बल्ह क्षेत्र जिला मंडी ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश के साथ-साथ पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, यूपी, जम्मू-कश्मीर व नई दिल्ली तक मौसमी सब्जियों व फलों की मांग पूरी करता है।

कहा, क्षेत्र में उपयुक्त नहीं निर्धारित साइट

उन्होंने कहा कि मंडी से ब्यास दरिया, सुकेती खड्ड बल्ह, सुंदरनगर व बिलासपुर की सतलुज व गोविंद सागर के नदियों वाले हिस्से पर लगभग 6 महीने तक बरसात व शीत ऋतु में धुंध व कोहरा रहता है, जिस कारण किसी भी अनहोनी का शिकार होने से किसी जान-माल का नुकसान होने का अंदेशा रहता है।

उन्होंने कहा कि उड्डयन मंत्रालय नई दिल्ली आम लोगों के हित के साथ ही हवाई अड्डे के निर्माण को न जोड़े, बल्कि सुरक्षा की दृष्टि से हवाई अड्डे का निर्माण ऐसे क्षेत्र में किया जाए, जहां धुंध-कोहरा न पड़ता हो। जहां पर पड़ोसी दुश्मन देशों से सुरक्षा के लिए हवाई हमले करने के लिए युद्धवर्षक हवाई फाइटर विमान जुगुआर, सुखोई व एफ-16 इत्यादि का ठहराव भी आसानी से हो तथा दुश्मनों से निपटने के लिए इस हवाई अड्डे का उपयोग भी किया जा सके।

यह भी पढ़ें – घेराव और हिसाब का हाई प्रोफाइल ड्रामा खत्म

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams