News Flash
encroachment

अतिक्रमण की मार झेल रहा हमीरपुर शहर, प्रशासन कर रहा शिकायत का इंतजार

  • लोगों को बाजार से गुजरने में होती है परेशानी
  • वाहन चालकों के लिए गाड़ी निकालना मुश्किल

सुभाष चंद। हमीरपुर
भले ही स्थानीय प्रशासन अतिक्रमण को लेकर कई बार सख्त रवैया अपनाता रहा है, लेकिन इस सब के बावजूद अतिक्रमण की मार हमीरपुर शहर अब भी झेलता ही दिखाई देता है। अतिक्रमणकारियों के लिए प्रशासन की कार्रवाई महज कुछ समय तक के लिए ही होती है। प्रशासन की कार्रवाई खत्म होते ही फिर वही सूरते हाल दिखने लगता है। यही नहीं कई स्थानों पर निर्धारित पीली पट्टी के नियमों को तोड़ कर उससे आगे सामान लगा दिया जाता है। इससे एक ओर जहां बाजार में आवाजाही में लोगों को परेशानी आती है, वहीं बाजार में लगातार गुजरते वाहनों से समस्या ज्यादा बढ़ जाती है।

यह समस्या ज्यादातर गांधी चौक से लेकर सब्जी मंडी तक आम तौर पर देखी जाती है। यह पीली पट्टी शहर के बीच गुजरने वाली सड़क पर इसलिए लगा रखी है, ताकि दुकानदार इससे बाहर सामान को न लगा सकें और आवागमन में समस्या न आ सके। अतिक्रमण की मार अब तो यहां तक पहुंच गई है कि शहर के गांधी चौक पर गांधी की प्रतिमा तक जाने के लिए बनाई गई सीढिय़ों पर भी दुकानदार सामान रखने से परहेज नहीं कर रहे है। सड़क पर दुकान और सामान को सीढिय़ों पर लटकाया जा रहा है।

क्या कहते हैं नप के कार्यकारी अधिकारी

इस संदर्भ में नगर परिषद हमीरपुर के कार्यकारी अधिकारी सतीश ठाकुर का कहना है कि ऐसे मामलों पर ध्यान देकर यथाशीघ्र उचित कार्रवाई कर शहर से अतिक्रमण को हटाया जाएगा।

शहर में रेहडिय़ों का जाल, नगर परिषद पर्ची काटने तक सीमित

हमीरपुर शहर में रेहड़ी-फड़ी वालों का जाल भी बढ़ता जा रहा है। आए दिन किसी न किसी स्थाना पर एक नई रेहड़ी देखी जा सकती है। रेहड़ी लगाने का भी अब नया तरीका अपनाया जा रहा है। रेहड़ी वाला अपनी रेहड़ी को दिन में दो या तीन बार एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाकर खड़ी करता रहता है। इसमें चाहे बाहर से आए प्रवासियों द्वारा इटली डोसा बेचा जा रहा हो या फिर बरगर एवं रेवड़ी व कुलफी बेची जा रही हो। ऐसी रेहडिय़ों से बाजार दिन भर भरा रहता है और कहने को ये रेहडिय़ां अतिक्रमण के दायरे में नहीं आती है। उधर नगर परिषद प्रतिदिन रेहडिय़ों की पर्ची काट कर बेफिक्र होता ही लगत रहा है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams