hanuman poor family

दानी सज्जनों से दरकार

हिमाचल दस्तक। रिवालसर
खुशहाली की जिंदगी जी रहे परिवार को किसी की ऐसी नजर लगी कि आज परिवार का मुखिया खुद लाचार होकर रहा गया है। किस्मत ने ऐसी करवट बदली की खुशहाल परिवार को खाने तक के लाले पड़ गये हैं। रिवालसर में गत 20 बर्षों से टाईल, मार्बल बिछाने का काम करने वाले हनुमान क्षेत्र में टायल ठेकेदार के रूप में काफी मशहूर है तथा लोग इसके काम के आज भी कायल हैं। लेकिन गत वर्ष हनुमान की पत्नी को पैरालिसिस अटैक आने से उसकी सारी जमा पूंजी उसके ईलाज में लग गई।

बावजूद पत्नी एक वर्ष से जिंदा लाश बनी हुई है। अभी वह फिर से कामकाज संभालने की सोच ही रह था कि खुद पैरालिसिस का शिकार हो गया। मां बाप दोनों की सारी जिम्मेदारी बड़ी बेटी लक्ष्मी जो नर्सिंग की ट्रेनिंग कर रही थी उस पर आ गई जिस कारण उसकी ट्रेनिंग भी अधूरी रह गई। साथ में अपने से छोटे दो भाइयों तथा एक बहन की जिम्मेदारी भी उस पर है। ऊपर से कमाई का कोई साधन नहीं है।

हनुमान की बेटी पर अब जैसे पहाड़ ही गिर गया हो मां बाप की दवाइयों का भारी खर्चा, भाई बहनों की पढ़ाई लिखाई व खाने पीने के साथ कमरे का किराया वह कैसे चुकाएं उसके लिए मुश्किल हो गया है। लक्ष्मी ने बताया कि उनके पास पैसे के नाम पे कुछ भी नहीं है। राशन, रसोई गैस व बिजली बिल देने को भी उनके पास पैसे नहीं है। सरकारी मदद भी कोई मिल नहीं पा रही है।

उधर रिश्तेदारों ने पहले ही हाथ खड़े कर दिए हैं। ऐसे में इस परिवार को सरकारी मदद के साथ ऐसी सामाजिक संस्थाओं व दानी सज्जनों की जरूरत है जो इस परिवार का इस बड़े संकट में साथ देकर पुण्य का भागीदार बन सके। कोई भी दानी सज्जन उनकी सहायता करना चाहता हो तो वह पीएनबी शाखा रिवालसर हुनमान के नाम से खाता नंबर 0921000101068350 आईएफ एस पी पीयूएनबी 0092100 में सहायता राशि जमा करवा सकता है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams