Cloud Burst

जिंगजिंगबार में 200 मीटर तक सड़क बह गई

  • सिंधु दर्शन कर लौट रहे यात्रियों को गाडिय़ों में गुजारनी पड़ी रात
  • 15 बसें व टैंपो ट्रैवलर जिंगजिंगबार और पत्सेउ के बीच फंसे

केलांग : लाहौल-स्पीति में बादल फटने से जिंगजिंगबार में 200 मीटर तक सड़क का नामोनिशान मिट गया है। इस कारण घाटी में वाहनों के पहिए थम चुके हैं। इससे सिंधु दर्शन करने वाले यात्रियों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। ये यात्री सिंधु दर्शन कर वापस केलांग की ओर आ रहे थे। मंगलवार देर रात इन यात्रियों को केलांग पहुंचना था लेकिन जिंगजिंगबार और पत्सेउ के बीच बादल फटने से यात्रियों को गाडिय़ों में ही रात गुजारनी पड़ी। इस घटना में सैकड़ों यात्रियों सहित कई वाहन बुधवार दोपहर तक फंसे रहे।

बादल फटने से पत्सेउ से आगे सड़क काफी खस्ताहाल हो गई है। मंगलवार देर रात को मनाली-लेह हाईवे पर बादल फटा। बुधवार सुबह इसकी सूचना मिलते ही बीआरओ की टीम घटनास्थल की ओर रवाना हो गई और रेस्क्यू कर सभी यात्रियों को सुरक्षित निकालने में जुट गई। बादल फटने से लगभग 450 यात्री प्रभावित हुए हैं। गौरतलब है कि लाहौल घाटी में जोरदार बारिश हो रही है। माइनस डिग्री से नीचे के तापमान में यात्रियों को रात गुजारनी पड़ी। वहीं घाटी में मोबाइल के खराब सिग्नल के चलते यात्रियों का अपने संबंधियों व परिजनों से संपर्क नहीं हो पा रहा है।

सड़क बहाल होते ही यात्रियों ने राहत की सांस ली

बुधवार सुबह घटना की सूचना मिलते ही बीआरओ के कप्तान सन्नी के नेतृत्व में जेसीबी और अन्य मशीनरी दारचा से घटनास्थल की ओर रवाना हुई। भारी बारिश के बीच बीआरओ के जवान कड़ी मशक्कत कर दोपहर बाद सड़क को बहाल करने में कामयाब हुए। सड़क बहाल होते ही यात्रियों ने राहत की सांस ली। उधर जिला प्रशासन और पुलिस टीम ने भी बीआरओ के साथ सड़क बहाल करने में सहायता की। बादल फटने से केलांग से 45 किलोमीटर दूर पत्सेउ से 7 किमी जिंगजिंगबार नाले में 200 मीटर तक सड़क का नामोनिशान नहीं रहा है।

जिंगजिंगबार और पत्सेउ के बीच बादल फटने से 450 यात्री, सैकड़ों देसी व विदेशी पर्यटकों की गाडिय़ां और 100 से अधिक मोटरसाइकिल सवार प्रभावित हुए। इस घटना में सैलानियों की 15 बसें, टैंपो टै्रवलर सहित अन्य छोटी गाडिय़ां भी थी। पत्सेउ और जिंगजिंगबार के बीच दर्जनों ढाबों और टेंट कैंप वालों ने बारिश के बीच फंसे पर्यटकों को पनाह दी और खाना खिलाया। सिंधु दर्शन के संयोजक डॉ. चंद्र मोहन परशीरा ने बताया कि उनकी टीम दवाइयां तथा खाने-पीने की चीजों को लेकर स्पॉट पर पहुंची और सभी यात्रियों को सुरक्षित केलांग पहुंचाया।

लाहौल-स्पीति के एसपी रमन कुमार मीणा ने बताया कि जिंगजिंगबार में फंसे सभी पर्यटकों को सड़क से मलबा हटाने के बाद सुरक्षित दारचा पहुंचा दिया गया है। उधर, लाहौल-स्पीति डीसी देवा सिंह नेगी का कहना है कि बुधवार को जिला प्रशासन की टीम घटनास्थल की ओर पुलिस टीम के साथ रवाना हुई। बीआरओ के जवानों के साथ कड़ी मशक्कत के बाद सड़क से मलबा हटाया गया और जिंगजिंगबार में फंसे पर्यटकों को दारचा सुरक्षित पहुंचाया गया।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams