Students

लोगों ने कहा, बस समस्या को लेकर सरकार व निगम गंभीर नहीं

नाहन-कौलवालाभुंड बस की ओवरलोडिंग से खफा

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। नाहन
प्रदेश सरकार के राज्य में एक समान विकास के दावे पिछड़े जिलों में खोखले साबित हो रहे है। सिरमौर जिला केे मुख्यालय नाहन विकास खंड की सबसे बडी पंचायत को जोडऩे वाली बस सेवाओं का बुरा हाल है। आलम यह है कि नाहन से कौलवालाभुंड की ओर जाने वाली 37 व 47 सीटर HRTC की बसों में हर रोज 100 से अधिक सवारियां जान को जोखिम में डाल कर सफर करने को मजबूर है। दशकों से ग्रामीणों की मांग पर निगम नाहन-कौलवालाभुंड रूट पर बसें नहीं बढ़ा रहा है, जिसके करण ये ओवरलोड बसें किसी भी बड़े हादसे का सबब बन सकती है।

इस रूट पर नई बस चलाने के आश्वासन देने के बाद जाम खोला गया

बसों की ओवरलोडिंग़ से पेरशान लोगों व छात्रों का गुस्सा सोमवार सायं को एचआरटीसी के खिलाफ तब फूटा जब नाहन से कौलवालाभुंड पांच बजे चलने वाली 47 सीटर बस में 130 से अधिक लोग सफर को मजबूर हो गये। बस में बजूर्गों व महिलाओं को बस में भीड़ के कारण संास लेने में परेशानी होने लगी। गुस्साए लोगों व स्कूल, कॉलेज व आईटीआई के छात्रों ने नाहन से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बनोग में डेढ घंंटे तक सड़क को जाम कर दिया।

पुलिस व HRTC के RM को जल्द इस रूट पर नई बस चलाने के आश्वासन देने के बाद जाम खोला गया। लोगों का कहना है कि बस समस्या को लेकर सरकार व निगम गंभीर नहीं है। अमन ठाकुर, राकेश व सुनील ने बताया कि इस बस में प्रतिदिन करीब 90 पास होल्डर छात्र-छात्राएं सफर करते हैं, जिससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि बस में सफर करना कितना जोखिम भरा है।

छात्रों के अलावा अन्य लोग भी इसी बस में सफर करते हैं। छात्रों का कहना है कि वह इस समस्या को लेकर कई बार निगम व परिवहन विभाग के अधिकारियों से मिल चुके हैं, मगर इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जाता है। लोगों के गुस्से का सामना कर रहे निगम के अधिकारी ने मौके पर एक और बस बुलानी पड़ी, जिससे सवारियों को आगे भेजा गया।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams