News Flash
Computer

जिप सदस्य बोले, स्कूलों में शिक्षकों के पद खाली

कंप्यूटर साइंस की जगह ड्राइंग पढऩे को मजबूर हो रहे छात्र

हिमाचल दस्तक। ऊना

हिमाचल सरकार शिक्षा में मजबूती के सिर्फ खोखले दावे कर रही है। बस कागजों में खानापूर्ति कर खुद को ढकने की कोशिश कर रही है। यह बात शुक्रवार को जिला परिषद सदस्य पंकज सहोड़ ने कही। शुक्रवार को जारी बयान में सहोड़ ने कहा कि प्रदेश सरकार ने स्कूलों में कंप्यूटर शिक्षा की मजबूती के लिए आईएल एंड एफएस कंपनी के साथ एक समझौते के तहत ऊना में नवंबर 2015 में 89 स्कूलों में 890 कंप्यूटर उपलब्ध करवाए थे।

इनमें से ज्यादातर स्कूलों में कंप्यूटर टीचर नहीं होने की वजह से बड़ी संख्या में कंप्यूटर सफेद हाथी बने हुए हैं। इसकी वजह से बच्चों को कंप्यूटर की शिक्षा नहीं मिल पा रही है और न चाहते हुए भी बच्चों को कंप्यूटर साइंस की जगह ड्राइंग सब्जेक्ट रखने पर मजबूर होना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार शिक्षा की मजबूती के दावे हजार करती है, लेकिन उसके यह दावे पानी के बुलबुले ही साबित हो रहे हैं।

सरकार सिर्फ  कागजों में ही शिक्षा के बुनियादी ढांचे को मजबूत कर रही है, जबकि हकीकत में वह हमारे देश के भविष्य और हमारे बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ कर रही है। पकंज सहोड़ ने कहा कि हिमाचल प्रदेश भारत प्रशासित साक्षरता दर में देश भर में तीसरा स्थान रखता है, लेकिन वीरभद्र सरकार ने शिक्षा का मजाक बनाकर रख दिया है। उन्होंने प्रदेश सरकार से मांग की है कि सभी स्कूलों में कंप्यूटर टीचर जल्द से जल्द उपलब्ध करवाई जाएं, ताकि बच्चों का भविष्य सुरक्षित रह सके।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams