News Flash
If you do not work, give us National Highway

खराब सड़कों से परेशान जयराम सरकार ने केंद्र को दिया सुझाव, दिल्ली में केंद्र सरकार के सचिव के साथ मुख्य सचिव ने की बैठक, रूके फोरलेन प्रोजेक्टों का काम भी जल्द बहाल करने को कहा 

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : मुख्य सचिव बीके अग्रवाल ने सोमवार की शाम को नई दिल्ली में भारत सरकार सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के सचिव संजीव रंजन के साथ भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण यानी एनएचएआई की सभी सड़कों की खराब हालत पर बैठक की।

उन्होंने कहा कि एनएचएआई अच्छी तरह से और नियमित रूप से 774 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का रख रखाव नहीं कर रहा है। मुख्य रूप से राज्य के पहाड़ी क्षेत्रों में नियमित रख रखाव के लिए आवश्यक फील्ड स्टाफ और श्रमिकों की कमी के कारण यातायात के लिए सुरक्षित नहीं हैं और इसके कारण राज्य सरकार को मुश्किल स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। राज्य सरकार ने सुझाव दिया कि इस काम को राज्य लोक निर्माण विभाग के एनएच विंग को एनएचएआई के डिपॉजिट वर्कस के रूप में सौंपा जाए। स्टेट पीडब्ल्यूडी के पास नियमित रखरखाव के लिए पर्याप्त फील्ड स्टाफ और बुनियादी ढांचा है।

अग्रवाल ने संजीव रंजन को किरतपुर नेरचौक परियोजना के फोरलेनिंग कार्य, जोकि जून, 2018 से बंद पड़ा है, के बारे में अवगत करवाया। यह राजमार्ग कुल्लू और मंडी जैसे पर्यटन स्थलों तक जाने वाली जीवनरेखा है। उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को इस परियोजना में दोबारा कार्य शुरू करने और 2012 से लंबित कार्य को बिना किसी विलंब से पूरा करने का अनुरोध किया।

उन्होंने कहा कि नेरचौक पंडोह परियोजना का कार्य बहुत धीमी गति से चल रहा है, इसलिए इसे तेज किया जाए। पिंजौर-बद्दी-नालागढ़ फोरलेन परियोजना के लिए 31.400 किलोमीटर की लंबाई में हो रहे विलंब पर भी उन्होंने बात की। सचिव संजीव रंजन ने आश्वासन दिया कि इन सड़कों को प्राथमिकता के रूप में लिया जाएगा और इन सड़कों पर काम जल्द से जल्द शुरू किया जाएगा।

यह  भी पढें :  माहौल ट्रिब्यूनल के खिलाफ, पहले विधायकों से राय लेंगे

                   लीड देने वाले विधायक ही बनेंगे कैबिनेट मंत्री : जयराम ठाकुर

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams