tandi sansari road

लोगों को बेहतर सड़क सुविधा देना सीमा सड़क संगठन का लक्ष्य

हिमाचल दस्तक। काजा
जिला लाहौल स्पीति की सड़कों का कायाकल्प अब होने लगा है। सीमा सड़क संगठन के दीपक परियोजना के अंतर्गत 38 कृतिक बल के अधीन 70 आरसीसी और 94 आरसीसी है। जिसमें 70 आरसीसी के पास मनाली से बरालचा तक 222 किलोमीटर सड़क है। जो अब लगभग डबललेन होकर पक्की होने वाली है। जिसमें कुछ ही किलोमीटर सड़क को चौड़ा करना तथा पक्का करना रह गया है। दूसरी तरफ तांदी से संसारी नाला तक की सड़क का जिम्मा 94 आरसीसी के पास है। जो कि लगभग 150 किलोमीटर है।

उदयपुर से आगे भी सड़क को चौड़ा करने का काम तेज किया हुआ है

मडग्रां से संसारी नाला तक सड़क ज्यादातर तीखे पहाड़ों को काटकर बनाई गई है। जो अभी तक सिंगल वाहनों के योग्य ही है। साल में मात्र 6 महीने इन इलाकों में काम हो पाता है। ऐसे में सीमा सड़क संगठन की चुनौतियां भी कम नहीं है। जगह-जगह उफनते नाले भी संगठन के लिए गर्मियों के दौरान आफत खड़ी कर देते हैं। हालांकि संगठन ने उदयपुर से आगे भी सड़क को चौड़ा करने का काम तेज किया हुआ है। पहाड़ों को काटना और बेहतर सड़क बनाना सीमा सड़क संगठन का एकमात्र लक्ष्य रहता है।

हाल ही में इन दिनों मडग्रां से आगे काला ढांक से हिमाचल पथ परिवहन निगम की बस का पास करवाना निगम और संगठन के लिए एक मील का पत्थर साबित हुआ है। क्योंकि स्टार बस उंची होने के कारण इस रास्ते से जा नहीं पा रही थी। निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक मंगल चंद मनेपा के अनुसार उन्होंने 94 आरसीसी के कमांडिंग ऑफिसर एसएस देश पांडे से अनुरोध कर इस ढांक से सड़क को ठीक करवाने की अपील की। जिसके लिए सीमा सड़क संगठन के अधिकारी ने अपनी पूरी ताकत झोंकी और पहाड़ी रास्ते के पहाड़ को काटकर बसों को आर
पार किया।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams