News Flash
tradition burning gharesu

जिला में धूमधाम से मनाया दीपावली पर्व

धर्मचंद वर्मा। मंडी
मंडी में दीपावली पर्व की खूब धूम रही। हालांकि सुप्रीमकोर्ट के फैसले जिसमें दो घंटे ही आतिशबाजी करने की इजाजत दी गई थी। इसका असर वीरवार सुबह देखने को मिला जब आसमान पूरी तरह से साफ नजर आया व पहले की तरह धुएं की परत कहीं नहीं दिखी। रात के समय भी आसमान पिछले सालों की अपेक्षा काफी साफ रहा। यह अलग बात थी कि रात आठ बजे से पहले व दस बजे के बाद भी पटाखे आतिशबाजी चलती रही, मगर काफी कम तादाद में ऐसा हुआ।

कोर्ट व प्रशासन के आदेशों का असर कुछ हद तक देखने को मिला। पुलिस व प्रशासन ने जो रात को दस बजे के बाद आतिशबाजी करने व पटाखे चलाने पर दंडात्मक कार्रवाई करने की धमकी दी थी वैसा भी कोई मामला दर्ज नहीं हुआ। वहीं मंडी में पारंपरिक तरीके से दिवाली मनाए जाने की परंपरा है, जो आज भी कुछ हद तक कायम है। सूखे घास से बनाए गए घेरसू जलाने की परंपरा आज भी कायम है। बड़ी मात्रा में ग्रामीणों ने घेरसू बनाकर दीवाली पर इसे मंडी में बेचा। इस बार कई सालों बाद दीवाली पर अत्याधिक व सुंदर साफ खिले हुए कई किस्म के फूल बाजार में बिकने के लिए आए।

सही दाम पर लोगों को फूल मिल गए। पटाखों व आतिशबाजी में जरूर इस बार कुछ कमी आई

लाखों रुपए का कारोबार फूलों का हुआ जो ग्रामीण आर्थिकी के लिए काफी सुखद समझा जा सकता है। मंडी में दीवाली पर फूल बेचने का काम मंडी शहर के आसपास के गांवों के आम लोग ही करते हैं जो इस दिन खूब फूल बेचते हैं। हर तरह के फूल व गुलदस्ते इस बार बाजार में देखने को मिले। फूलों की कीमत भी कोई ज्यादा नहीं रही। सही दाम पर लोगों को फूल मिल गए। पटाखों व आतिशबाजी में जरूर इस बार कुछ कमी आई। पर्यावरण को लेकर आई जागरूकता इसका बड़ा कारण माना जा रहा है।

दीवाली के दिन कोई बड़ी घटना की भी नहीं घटी। शहर की बीचों बीच एक होटल के स्टोर रूम में आतिशबाजी के घुस जाने से आधी रात को सुलगी आग ने लगभग दो लाख का नुकसान कर दिया मगर आग पर जल्दी ही काबू पाकर घनी आबादी व मकान के दूसरे हिस्से में इसे फैलने से बचा लिया गया। इसके अलावा किसी बड़ी घटना का समाचार नहीं है।

वहीं लगातार तीन दिनों तक चलने वाले त्यौहारों को लेकर जहां मनियारी की दुकानों में महिलाओं की खरीद फरोख्त को लेकर भारी भीड़ देखने को मिली वहीं वर विश्वकर्मा दिवस व बरलाज व भाईदूज को लेकर मंडी की मशहूर मिठाई विक्रेता मनपसंद, पाल स्वीट्स व साईं स्वीट्स के अलावा भूतनाथ बाजार में मशहूर कृपा राम हलवाई की दुकानों में मिठाइयां खरीदने के लिए लोगों का हुजूम दिखा।

मलवाणा में लगा दिवाली मेला

जिला की बल्हघाटी के मलवाणा गांव की दिवाली परंपरा से जुड़ी दिवाली होती है। हर साल की तरह इस बार भी माता मनसा देवी के नाम पर नागधार के मंदिर में दिवाली मेले का आयोजन किया गया। जिसमें मनसा माता के अलावा देव कांढी कामेश्वर, देव टिक्करू बाला कामेश्वर अन्य देवी-देवता मौजूद रहे। इस मौके पर देवताओं के गुरों ने देवखेल के दौरान ढोल नगाड़ों की तान पर नृत्य किया और लोगों के सवालों के जवाब भी दिए।

यह भी पढ़ें – डाडासीबा में 10 करोड़ से बनेगा अस्पताल का भवन – बिक्रम

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams