एसएफआई इकाई ने समरहिल चौक पर दिया धरना

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय की एसएफआई इकाई ने समरहिल चौक पर धरना दिया। धरने में बैठे छात्रों ने एमसीए विभाग के अंदर ऑर्डिनेंस और यूजीसी के नियमों को दरकिनार करके पीएचडी में प्रवेश का विरोध किया। एसएफआई कार्यकत्र्ताओं के मुताबिक एचपीयू का एमसीए डिपार्टमेंट पीएचडी में अवैध प्रवेश का अखाड़ा बन गया है।

प्रदेश विश्वविद्यालय के ऑर्डिनेंस और यूजीसी के नियमों को सरेआम ताक पर रखा जा रहा है। कैंपस अध्यक्ष विक्रम ठाकुर ने आरोप लगाया कि विभाग में टीचर कोटे से पीएचडी दाखिला पूर्ण रूप से अवैध है और इस दाखिले को अंजाम देने में एचपीयू के डीएस अरविंद कालिया, जो कि एमसीए विभाग में कार्यरत है, उनका प्रमुख हाथ है। सिर्फ डिपार्मेंट काउंसिल की मीटिंग के आधार पर ऑर्डिनेंस को दरकिनार करके अपने खास लोगों का प्रवेश पीएचडी में किया है।

उन्होंने बताया जिसे प्रवेश दिया गया है वो एक निजी महाविद्यालय में कार्यरत है, बल्कि नियमों के तहत केवल सरकारी प्रोफेसर ही इसके लिए योग्य है। डायरेक्टर ऑफ हॉयर एजुकेशन वरीयता सूची टीचर कोटे के प्रवेश में हस्तक्षेप करता है, लेकिन इस मामले में ऐसा कोई भी चरण नहीं आया और न ही इसके लिए कोई विज्ञापन दिया गया जबकि नियमों के अनुसार सीटों को दो राष्ट्रीय अखबारों में विज्ञापित करना जरूरी है।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams