ITI

ग्यारह वर्ष पहले बनाया गया था ITI भवन

हिमाचल दस्तक,खुशनगरी।। जिला चंबा चुराह स्थित ITI भवन खंडहर में तब्दील होने की कगार पर है। जानकारी के अनुसार बीते 11 वर्ष पूर्व इस भवन का निर्माण किया गया है। बावजूद इसके आज दिन तक किसी भी विभाग द्वारा लाखों की राशि खर्च कर बनाए गए इस भवन की सुध लेना गंवारा नहीं समझा है।

  • चोर चुरा कर ले जा चुके हैं बिल्डिंग का सामान
  • किसी भी विभाग ने नहीं ली है सुध 

वर्तमान समय में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के भवन की खिड़कियां, दरवाजें यहां तक की अब बिजली की तारों को भी चोर चुरा कर ले जा चुके हैं। हैरानी की बात तो ये है कि आज दिन तक इस भवन की सुध लेने के लिए किसी भी विभाग ने हामी तक नहीं भरी है। उल्लेखनीय है कि चुराह क्षेत्र में स्थित औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के भवन को बने लगभग दस वर्ष से ज्यादा का समय हो चुका है। बावजूद इसके आज तक किसी भी विभाग ने इसकी सुध लेना उचित नहीं समझा है।

दो वर्ष ही महाविद्यालय तीसा की कक्षाएं यहां पर लग पाई

ग्रामीणों की मानें तो भवन के निर्माण के बाद महज दो वर्ष ही महाविद्यालय तीसा की कक्षाएं यहां पर लग पाई थी। इसके बाद किसी ने भी इस भवन को चलाने की कोशिश तक नहीं की। हैरानी की बात तो ये भी है कि महाविद्यालय के बाद इस भवन में न तो किसी विभाग को जिम्मेवारी सौंपी और न ही इस भवन में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान को शुरू करवाया गया। लेकिन हर बार चुनावों के दौरान आईटीआई का मुद्दा जरूर गुंजता है।

भवन बन चुका है नशेडिय़ों का अड्डा

ग्रामीणों की मानें तो आईटीआई के लिए चुराह में बनाया गया भवन विभागीय लापरवाही का ही खामियाजा भुगत रहा है। किसी भी विभाग द्वारा इस भवन की देखरेख का जिम्मा न लिए जाने से लाखों की राशि खर्च कर बनाया गया ये भवन अब खंडहर में ही तब्दील होता दिख रहा है। इतना ही नहीं, अब ये भवन नशेडिय़ों का अड्डा बना हुआ है।

भवन पूरी तरह खंडहर

ग्रामीणों की मानें तो चुराह के ज्यादातर लोग गरीब हैं, जो अपने बच्चों को निजी संस्थानों में प्रशिक्षण नहीं दिला सकते हैं। बावजूद इसके विभागीय लापरवाही के चलते अब ग्रामीण अपने बच्चों को निजी संस्थानों में ही दाखिला करवाने को मजबूर हैं। ग्रामीणों का कहना है कि आगामी चुनावों में भी आईटीआई का मुद्दा खूब गुंजेगा। उन्होंने बताया कि आगामी वर्ष होने वाले विस चुनावों ने एक बार फिर से इस आईटीआई भवन को चुनावों में बलि बनाया जायेगा। लेकिन चुनावों के बाद कोई भी इस मामले में बात नहीं करेगा ओर देखने की बात होगी की आईटीआई चुराह में आ भी जाती है तो भवन पूरी तरह खंडहर ही बन गया होगा।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams