road nh

8 साल बाद जगी लोगों को उम्मीद, जाम से मिलेगा छुटकारा

  • आठ साल से निर्माणाधीन सुपर हाईवे के अधूरे काम को अब नेशनल हाईवे अथॉरिटी करेगी पूरा
  • डीपीआर की जा रही तैयार गलमा पुल के लिए पांच करोड़ की राशि केंद्र ने की स्वीकृत
  • स्टेट हाईवे अथॉरिटी ने बीच में छोड़ा था निर्माण कार्य

हिमाचल दस्तक। मंडी

पिछले आठ सालों से लंबित पड़ा नेरचौक से कलखर तक प्रस्तावित सुपर हाईवे के निर्माण कार्य को अब नेशनल हाईवे अथॉरिटी पूरा करेगी। पहले यह मार्ग स्टेट हाईवे अथॉरिटी के पास निर्माणाधीन था जो इस प्रोजेक्ट पूरा नहीं कर पाई थी। गौर रहे कि पिछली सरकार ने  नेरचौक  से लेकर ऊना तक के सुपर हाईवे के लिए करीब 108 करोड़ की धनराशि लोन पर ली थी। लेकिन स्टेट हाईवे अथॉरिटी इस मार्ग का निर्माण कलखर तक ही करवा पाई, जबकि कलखर से नेरचौक तक के भाग पिछले आठ सालों से अधर में ही लटका रहा।

अब इस निर्माण कार्य को नेशनल हाईवे अथॉरिटी पूरा करेगी। सूत्रों के मुताबिक नेरचौक से कलखर तक की डीपीआर तैयार की जा रही है। जल्दी ही इसका निर्माण कार्य शुरू किया जा सकता है। यह सड़क मार्ग करीब 14 किमी का है, जिसका निर्माण किया जाना है। यदि यह मार्ग नेशनल हाईवे बनता है तो ऊना से नेरचौक तक का मार्ग डब्बललेन हो जाएगा। जिससे पंजाब जाने वाले वाहनों को और सुविधा हो जाएगी।

जैसे ही यह नेशनल हाईवे बनेगा लोगों को जाम से छुटकारा मिल जाएगा

नेरचौक से कलखर तक सिंगल लेन होने के चलते इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही आसानी से नहीं हो पाती है। कई घंटों तक हर रोज वाहनों को जाम से गुजरना पड़ रहा है, लेकिन जैसे ही यह नेशनल हाईवे बनेगा लोगों को जाम से छुटकारा मिल जाएगा। साथ ही समय की भी बचत होगी।

गौर है कि मंडी की सड़कों की दयनीय हालत को देखते हुए सीएम जयराम ठाकुर खासी दिलचस्पी ले रहे हैं, जिसके चलते ही इस मार्ग को अब नेशनल हाईवे के तहत बनाने का निर्णय लिया गया है। देखना यह है कि यह सड़क मार्ग कब बनकर तैयार होता है। फिलहाल तो लोगों को नेशनल हाईवे बनने की उम्मीदें जगी हैं। डीपीआर बनने के बाद ही इसकी अनुमानित लागत का पता चल पाएगा।

गलमा पुल के लिए पांच करोड़ स्वीकृत

नेरचौक से कलखर तक सड़क मार्ग में गलमा में एक नया पुल बनाया जाएगा। इसके लिए केंद्र सरकार ने पांच करोड़ रुपये स्वीकृत किए हैं। इसकी स्वीकृति भी सरकार को मिल गई है। इस पुल के बनने से डब्बललेन मार्ग का रास्ता भी साफ हो जाएगा।

ऊना से 2005 में शुरू हुआ था मार्ग का निर्माण

2005 से ऊना से नेरचौक तक सड़क मार्ग का सुपर हाईवे के तौर पर निर्माण शुरू किया गया था। 2007 में जाहू से कलखर के लिए निर्माण शुरू किया गया। जो गत वर्ष तक जारी रहा लेकिन कलखर से नेरचौक को सुपर हाईवे से नहीं जोड़ा जा सका।

अब स्टेट हाईवे वाले कलखर से नेरचौक तक के मार्ग का निर्माण नहीं करेंगे। सरकार ने इस मार्ग को नेशनल हाईवे के तहत बनाना तय कर लिया है। जल्दी ही इसकी डीपीआर तैयार हो जाएगी। -केहर सिंह, एसई पीडब्यूडी मंडी। 

आगे पढ़ें – शिक्षक ने शराब के नशे में परिवार से की मारपीट

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams