News Flash
Mukesh Agnihotri

कहा, कार्रवाई न हुई तो मिनी सचिवालय का होगा घेराव

हिमाचल दस्तक, राजीव भनोट। ऊना

जिला ऊना में बढ़ रहे अवैध खनन के मामलों को लेकर नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्रिहोत्री व सदर के विधायक सतपाल सिंह रायजादा ने कड़े तेवर अपना लिए है। वीरवार को विश्राम गृह ऊना में आपसी बैठक के दौरान दोनों विधायकों ने खनन के विरूद्ध संघर्ष का ऐलान कर दिया है। वहीं जिला पुलिस को मोहलत दी है कि यदि जल्द अवैध खनन के विरूद्ध फिल्ड में उतरकर कार्रवाई न की गई, तो आने वाले दिनों में मिनी सचिवालय का घेराव किया जाएगा और एसपी ऊना का पुतला भी फूंका जाएगा।

नेता विपक्ष मुकेश ने कहा कि जिला में खुलेआम मशीनरी से खनन हो रहा है। इस पर मीडिया में आवाज उठ रही है। जनता परेशान है। लोग शिकायत दे रहे हैं। जनप्रतिनिधि अधिकारियों तक मामले पहुंचा रहे है, लेकिन पुलिस प्रशासन ऐसा निकम्मा हो गया है कि राजनैतिक नेताओं के इशारे पर आंखे मूंद कर बैठा हुआ है। मुकेश अग्रिहोत्री ने कहा कि पहली बार जिला में ऐसे एसपी देखने को मिल रहे हैं, जिन्हें जिला में अवैध खनन दिख ही नहीं रहा है। उन्होंने कहा कि कानूनन खनन हो नियमों के तहत, क्योंकि निर्माण कार्य के लिए सामग्री की आवश्यकता रहती है।

कांग्रेस कार्यकाल में भाजपा के नेता माफिया पर हाय तोब्बा मचाकर प्रदर्शन करते थे। वीरभद्र सरकार के समय में अवैध खनन, डंप, ओवरलोडिंग, मशीनी खनन पर कड़ी कार्रवाई की जाती थी और अधिकारी नुक्सान होने पर नोटिस जारी करते थे। कभी भी कांग्रेस ने अवैध खनन को प्रोत्साहन नहीं दिया। लेकिन वर्तमान जयराम सरकार अवैध खनन को बढ़ावा दे रही है। हैरानी तो इस बात की है कि खनन में भाजपा के लोग शमिल है। मुख्यमंत्री तक का नाम प्रयोग में लाया जा रहा है। कुछ भाजपा नेता खुलेआम इस अवैध काम में अपनी जेबे भर रहे हैं। मुकेश ने कहा कि अब ये सब बर्दाश्त से बाहर है। जनता परेशान है। कांग्रेस अवैध खनन पर हल्ला बोलेगी। सदर के विधायक सपताल सिंह रायजादा के साथ इस मामले को लेकर चर्चा हुई है और जल्द मिनी सचिवालय में हल्ला बोला जाएगा।

खनन में झोंक रहे युवाओं

मुकेश ने कहा कि युवाओं केा रोजगार नहीं मिल रहा है और भाजपा के नेता नौकरियों का प्रबंध कर नहीं पा रहे हैं। लेकिन युवाओं को खनन की ओर से धकेला जा रहा है, जो कि सही नहीं है। भाजपा नेता जिस प्रकार युवा पीढ़ी को अवैध खनन के कारोबार में झोंक रहे हैं, उससे भाजपा का भला नहीं होगा।

स्वां के नुक्सान पर क्यों चुप अधिकारी

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि 922 करोड़ का स्वां तटीयकरण कार्य चल रहा है। जिला के अनेक स्थानों पर इस तटीयकरण कार्य को खनन के चलते नुक्सान हो रहा है। लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि स्वां प्रोजेक्ट के अधिकारियों ने आंखे मूंद ली है और फिल्ड में नुक्सान का कोई आकंलन हो रहा है। न ही किसी को नोटिस जारी किया गया है।

बाथड़ी से गगरेट तक क्यों नहीं हुई कार्रवाई

मुकेश ने कहा कि पंजाब के क्षेत्र में पुलिस के साथ जो धमकाने की कार्रवाई हुई है, उसकी हम निंदा करते है। इस पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए, लेकिन इस मसले पर भी न तो पुलिस प्रशासन और न ही प्रदेश सरकार कोई कार्रवाई कर पाई है। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि बाथड़ी से लेकर गगरेट तक 150 डंप है। सैंकड़ो मशीने लगी हुई है। टिप्पर ओवर लोड तो हो ही रहे है, लेकिन 20 टायरी घोड़े एक ट्राले में लाखों की खनन सामग्री ले जा रहे हैं। इस ओर पुलिस का ध्यान नहीं गया और पंजाब में निकल गए। उन्होंने कहा कि डीसी संदीप कुमार हरोली-रामपुर पुल पर गए, उन्हें डंप नहीं दिखे। डीएसपी व एसडीएम रोजाना इसी पुल से होकर हरोली नौकरी करने जाते है, उन्हें पुल के साथ लगे डंप नजर नहीं आते है।

This is Rising!

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams