Made of roads and bridges

लावारिस पशुओं से राहगीरों को हो रही मुश्किल,  वाहन चालकों के लिए भी बन रहे परेशानी का सबब 

हिमाचल दस्तक। मंडी : पिछले कुछ दिनों से बल्ह विधानसभा क्षेत्र की सड़कों तथा पुलों पर लावारिस पशुओं ने अपना आशियाना बनाया हुआ है। जिससे जहां वाहन चालकों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है वहीं पर सड़कों पर जाम लगना आम बात हो गई है। इन पशुओं के कारण लोगों को इधर-उधर जाने के लिए भी अपनी जान जोखिम में डालकर जाना पड़ता है।

इससे सबसे ज्यादा स्कूली बच्चे प्रभावित हो रहे हैं। गौर रहे कि मंडी से सुंदरनगर जोगिंद्रनगर तथा कुल्लू जाने वाली सड़कों पर जितने भी पुल हैं वहां पर पुल के बीचोंबीच लावारिस पशु बैठे रहते हैं। इसके चलते सड़कों पर जाम लग जाता है। इतना ही नहीं पुलों पर से लोगों को आवाजाही करने में बेहद दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। सबसे ज्यादा परेशानी स्कूल जाने वाले बच्चों को उठानी पड़ रही है। क्योंकि ये लावारिस पशु पुलों पर इस कदर खड़े रहते हैं जहां से क्रॉस करना जोखिम भरा होता है। कई बार ये पशु राहगीरों को चोट पहुंचाने के लिए उनकी ओर बढ़ जाते हैं।

पिछले दिनों बैहना गांव में एक सेवानिवृत्त पुलिस कर्मचारी लावारिस पशु का शिकार हो गया। लावारिस बैल ने उक्त व्यक्ति को इतना चोटिल कर दिया था कि उन्हें जोनल अस्पताल से शिमला आईजीएमसी के लिए रेफर करना पड़ा। लावारिस पशुओं की बढ़ती तादाद और उनकी हिंसक प्रवृति के चलते बैहना के गांववासियों ने प्रशासन से मांग की है कि लावारिस पशुओं के समाधान के स्थायी समाधान हेतु ठोस कदम उठाया जाए ताकि किसानों और राहगीरों को लावारिस पशुओं से राहत मिल सके। गांववासी ईश्वर चंद, हेमराज वालिया, हरदेव शर्मा, शिवपाल शर्मा, कन्हैया लाल आदि ने बताया कि लावारिस पशुओं की तादाद लगातार बढ़ रही है। जबकि किसान अपनी भूमि में मक् की बिजाई का कार्य कर रहे हैं। लावारिस पशु किसानों की फसल को पूरी तरह से तबाह कर देंगे।

 

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams