News Flash
Mahamukabala in the market of politics

मंडी संसदीय क्षेत्र में निरंतर बनी रही रोचकता ,  आरोप-प्रत्यारोप लगाने में किसी ने नहीं छोड़ी कसर

नरेंद्र शर्मा। मंडी : मतदान तक पहुंचते-पहुंचते मंडी का सियासी फीवर भी चरम पर पहुंचा है। मंडी संसदीय क्षेत्र हमेशा की तरह इस बार भी जोरदार चर्चा में रहा। पंडित सुखराम के सियासी दांव-पेच ने यहां की सियासी फिजा ही बदल दी। टिकट से लेकर और प्रचार के आधे समय तक उठा-पटक चलती रही। इस चक्कर में अनिल शर्मा का मंत्री पद भी बलि चढ़ गया।

इन तमाम घटनाओं के चलते इस हलके में रोचकता निरंतर बनी रही। तरह-तरह की बयानबाजियों ने सभी की जुबान पर मंडी को बराबर बनाए रखा। पैराशूट से कांग्रेस का टिकट पाने वाले आश्रय शर्मा और निवर्तमान सांसद रामस्वरूप शर्मा के बीच मुकाबला रोचकता वाला है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का गृह जिला है तो भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाते हैं। चुनावी समारोह में सभी प्रत्याशियों ने खूब जोर लगाया, लेकिन वे मतदाताओं की खामोशी को नहीं तोड़ पाए। इसे जागरुकता कहें या सही मायने में लोकतंत्र की खूबसूरती। मतदाता मतदान के बारे में खुलकर नहीं बोला है।

हालांकि प्रत्याशियों ने नुक्कड़ सभाओं के साथ अन्य संसाधनों से चुनाव प्रचार में कोई कमी नहीं छोड़ी है। प्रत्याशियों के साथ भाजपा-कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने भी जमकर पसीना बहाया है। न तो उन्होंने नारों में कमी रखी और न ही अन्य प्रचार में। लेकिन मतदाताओं की यह खामोशी कांग्रेस और भाजपा के प्रत्याशियों को परेशान कर रही है। बहरहाल दोनों ही दल अपने-अपने ढंग से जीत के आकलन कर रहे हैं। इस हलके में तमाम समीकरण काम करते हैं। अबकी दो ब्राह्मणों में मुकाबला है। सीट ब्राह्मण ही जीतेगा। बहरहाल आरोप-प्रत्यारोप लगाने में कोई कमी नहीं रखी। जिससे जनता से जुड़े मुद्दे चुनाव से पूरी तरह से गायब ही रहे।

इस सीट पर सही मायनों में मुकाबला सीएम जयराम ठाकुर बनाम पंडित सुखराम के बीच हो रहा है। दोनों ओर से एक और मसला भी है। दो पूर्व मुख्यमंत्रियों के फैक्टर भी यहां काम करेंगे। यह हलका पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह का रहा है। वे खुद और उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह यहां से सांसद रहे हैं। ऐसे में इनकी भूमिका सबसे अहम मानी जा रही है।

उन्होंने यहां प्रचार भी किया, लेकिन कुछ बयानों को लेकर खासे चर्चा में भी रहे। इसी प्रकार भाजपा में भी पूर्व मुख्मंत्री प्रेम कुमार धूमल फैक्टर मौजूद रहा। प्रेम कुमार धूमल के भी इस संसदीय हलके में काफी समर्थक हैं। इन तमाम फैक्टरों के चलते मंडी सीट पर सभी की नजरें हैं। अब मतदाता किसे कहां बैठाते हैं यह देखने की बात होगी।

पिछले चुनाव में रामस्वरूप शर्मा ने 39856 मतों से जीती थी सीट

2014 के लोकसभा के चुनाव में मंडी लोकसभा सीट पर रामस्वरूप शर्मा और प्रतिभा सिंह में मुकाबला हुआ इसमें रामस्वरूप शर्मा को 362824 और प्रतिभा सिंह को 322968 मत हासिल हुए। रामस्वरूप शर्मा ने यह सीट 39856 मतों से जीती थी। इस बार भाजपा-कांग्रेस का स्कोर क्या रहता है यह देखने योग्य होगा।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams