News Flash
earn money electricity

अब तक 135 प्लांट लगे, 200 अभी पाइपलाइन में

सोलर प्लांट पर 80 फीसदी सब्सिडी दे रही सरकार

  • रूफ टॉप सोलर प्लांट
  • बंदरों की उछलकूद से भी नहीं होगा कोई नुकसान

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला
हिमाचल में घर की छत पर सोलर पावर प्लांट लगाकर बिजली से पैसे कमाने का मौका है। हिम ऊर्जा रूफ टॉप सोलर पावर प्लांट पर अब 80 फीसदी सब्सिडी दे रहा है। राज्य में अब तक 135 प्लांट लग चुके हैं और 200 अभी पाइपलाइन में हैं। राज्य के लिए अभी तक 8 मेगावाट के प्रोजेक्ट मंजूर हैं और इनमें से 2.5 मेगावाट के प्लांट लग चुके हैं। इसके लिए हिम ऊर्जा निजी कंपनियों के माध्यम से प्लांट लगवा रहा है। इसकी बिजली को सीधे पावर लाइन से जोड़कर ग्रिड में डाला जा रहा है। इसके बाद उपभोक्ता के मीटर की जगह बाइडायरेक्शनल मीटर लगेगा।

यानी यह मीटर बिजली लाइन से ली बिजली और प्लांट से तैयार होने वाली बिजली की गणना अलग-अलग करेगा। साल के आखिर में आपकी बिजली गिनी जाएगी और उसी अनुसार बिजली बिल एडजस्ट कर भुगतान होगा। राहत की बात यह है कि बंदरों की उछलकूद से सोलर पैनल को कोई नुकसान नहीं होगा।

गांवों में घरों की छतों पर सोलर प्लांट लगाने के लिए सबसे पहले लोगों की चिंता यह होती है कि इसे बंदर कहीं तोड़ न दें। लेकिन हिम ऊर्जा के अधिकारी कहते हैं कि यह सोलर पैनल ग्लास कवर्ड होते हैं। इसलिए बंदरों की उछलकूद से कोई नुकसान नहीं होता। हिमाचल के साउथ फेसिंग ही ये पैनल लगाए जा सकते हैं। इसलिए पुराने घरों की ढलान किस तरफ है, इस पर बहुत कुछ निर्भर करता है।

शिमला में सरकारी भवनों पर लग रहे बड़े प्लांट

हिम ऊर्जा शिमला शहर के कुछ सरकारी भवनों पर बड़े सोलर पावर प्लांट लगाने जा रहा है। इसमें 400 किलोवाट का प्लांट प्रिंटिंग प्रेस बिल्डिंग पर कच्चीघाटी में लगेगा। एचपीयू में भी 350 किलोवाट का प्लांट स्थापित हो रहा है। इससे पहले एमएमयू सोलन ने अपने यहां 700 मेगावाट का सोलर प्लांट लगाया हुआ है। ये अपनी खपत की बिजली वहीं से बना रहे हैं। एचआरटीसी मुख्यालय पहले ही ये प्लांट लगा चुका है।

अब ऑनलाइन किए जा सकेंगे आवेदन : सीईओ

हिम ऊर्जा के सीईओ आशुतोष गर्ग ने बताया कि अब रूफ टॉप सोलर पावर प्लांट के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया को ऑनलाइन किया जा रहा है। इसमें अपने बिल नंबर और आईडी से कोई भी व्यक्ति घर बैठे या मोबाइल से यह आवेदन कर सकेगा। इसके बाद
इस आवेदन को हिम ऊर्जा प्रोसेस करेगा और प्रोजेक्ट लगाने वाली कंपनी के लोग खुद घर आकर बाकी औपचारिकताएं पूरी करवाएंगे।

यह है सोलर पावर प्लांट से कमाई का गणित

१. एक किलोवाट के प्लांट की लागत 53000 रुपये है, जबकि उपभोक्ता का खर्चा 12 हजार रुपये आएगा। बाकी सरकारी सब्सिडी।
२. हिम ऊर्जा प्लांट से तैयार होने वाली बिजली का हिसाब साल के आखिर में करेगा। यदि खपत से ज्यादा उत्पादन होगा, तो बोर्ड पैसे देगा।
३. छह कमरों के एक सामान्य घर के लिए 4 किलोवाट तक का प्लांट काफी होता है। चार साल में लागत पूरी और उसके बाद कमाई।

यह भी पढ़ें – ट्रक यूनियन को ना बनाएं राजनीति का अड्डा – बिट्टू

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams