News Flash
man living

बिंद्रावणी नप की डंपिंग साइट से मानसिक रोगी मिटा रहा पेट की आग

हिमाचल दस्तक। मंडी
मंडी से कुल्लू-मनाली एनएच बिंद्रावणी नगर परिषद की डपिंग साइट से कूड़ा-कचरा खाकर एक मानसिक रोगी अपने पेट की भूख को शांत कर रहा है। लेकिन उसे इलाज करवाने के लिए कोई भी संस्था आगे नहीं आ रही है। हालांकि वह कचरा खाकर कितनी बीमारियों से घिरा होगा यह तो कहना मुश्किल होगा, लेकिन उसकी हालत बद से बदतर हो चुकी है। कभी-कभार यह मानिसक रोगी बिंद्रावणी एनएच के किनारे बने ढाबों के सामने चुपचाप खड़ा रहता है, तो ढाबा मालिक ध्यान आने पर उसे रूखा-सुखा भोजन परोस देते हैं।

यह मानिसक रोगी उसी भोजन पर अपनी जीवन की इहलीला को संजोता चला जा रहा है। मंडी बचाओ संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष लक्ष्मेंद्र सिंह ने मानसिक रोगी की हालत पर चिंता व्यक्त की है और प्रशासन से गुहार लगाई है कि उक्त रोगी का अस्प्ताल में इलाज करवाया जाए। मोर्चा की टीम में भीम सेन, राजेंद्र कुमार शर्मा, मुकुल व विनोद कुमार ने भी इस पुण्य कार्य में अपना सहयोग किया। यह मानसिक रोगी लगभग 16-18 साल के बीच का है इसे सुनने व बोलने का कोई ज्ञान नहीं है।

हिमाचल बचाओ संघर्ष मेार्चा के अध्यक्ष लक्ष्मेंद्र सिंह ने डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर एसपी गुरदेव चंद शर्मा व यातायात अधिकारी को आगाह किया है कि हाईकोर्ट के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश जोजफ कुरियन ने प्रदेश में 12 के 12 जिलाधीशों को अनिवार्य आदेश पारित किए है कि प्रदेश में कहीं पर भी यदि कोई मानसिक रूप से विक्षिप्त पुरूष-महिला या बच्चा सड़क के किनारे निराश्रय पाया जाता है तो उन्हें तमाम जिलाधीश उच्च न्यायालय के अनिवार्य आदेशानुसार बाध्य है कि उन्हें जिला रैडक्रॉस सोसायटी की एंबुलैंस में पुलिस निगरानी के साथ आईजीएमसी में उपचार के लिए भर्ती किया जाए।

यह भी पढ़ें – सरकार शुरू करेगी हिमाचल सड़क सुधार योजना – सरवीण

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams