Mission to be seen today to see project of 6440 crores

4752 करोड़ का रेन वाटर हारवेस्टिंग और 1688 करोड़ का शिवा प्रोजेक्ट मर्ज, प्रोजेक्ट इंप्लीमेंटेशन प्लान को मिलेगी मंजूरी, तभी बन पाएगी डीपीआर

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। शिमला : कृषि और बागवानी के दो अहम प्रोजेक्टों का भविष्य तय करने एशियन डेवल्पमेंट बैंक का मिशन सोमवार से हिमाचल दौरे पर होगा। यह मिशन 5 जुलाई तक हिमाचल में रहेगा और इन प्रोजेक्टों के लिए चिन्ह्ति कलस्टरों का दौरा भी करेगा। यह दौरा इसलिए अहम है, क्योंकि इस दौरे के आधार पर ही 6440 करोड़ के इन प्रोजेक्टों के प्रोजेक्ट इंप्लीमेंटेशन प्लान को मंजूरी मिलेगी। इसी मंजूरी के आधार पर डीपीआर बनाने के लिए एडीबी धन की पहली किस्त जारी करेगा।

गौरतलब है कि आईपीएच विभाग ने 4752 करोड़ की लागत का रेन वाटर हारवेस्टिंग प्रोजेक्ट भारत सरकार के आर्थिक मामले मंत्रालय से अप्रूव करवाया था। ऐसा ही एक प्रोजेक्ट बागवानी के क्षेत्र के लिए शिवा नाम से 1688 करोड़ का भी मंजूर किया गया था। दोनों को केंद्र सरकार ने एडीबी से फंड करवाया। एडीबी के मिशन के पिछले दौरे के दौरान यह सुझाव दिया गया था कि चूंकि दोनों प्रोजेक्ट कृषि और बागवानी को पानी देने की मंशा से बनाए गए हैं, इसलिए इन्हें मर्ज कर दिया जाए।

इस फैसले के बाद अब इन्हें मर्ज कर दिया गया है और मर्ज के बाद मिशन पहली बार दौरे पर आ रहा है। इस मिशन में एडीबी की पूरी टीम होगी। राज्य सरकार ने इन दोनों प्रोजेक्टों में पहले चरण में 15 कलस्टर बागवानी के क्षेत्र में और 5 कलस्टर आईपीएच के लिए चिन्ह्ति किए हैं।

प्लान मंजूर होते ही बनेगी डीपीआर

आईपीएच एवं बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने बताया कि इन दोनों प्रोजेक्टों को मर्ज करने के बाद तैयार हुए प्लान की मंजूरी मिलते ही हम डीपीआर बना लेंगे। दोनों प्रोजेक्टों को जमीन पर उतारने के लिए कार्ययोजना बन चुकी है। सरकार सिर्फ एडीबी के फैसले का इंतजार कर रही है। मिशन 5 जुलाई तक हिमाचल में रहेगा। इस दौरान सरकार के साथ भी इनकी बैठकें होंगी। हमें उम्मीद है कि दोनों प्रोजेक्ट एडीबी मंजूर करेगा।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams