modi government

छोटे व्यापारी तबके की कमर तोड़ी – राजेंद्र राणा

हिमाचल दस्तक। सुजानपुर
विधायक राजेंद्र राणा ने कहा है कि पिछले 4 सालों के दौरान केंद्र की मोदी सरकार ने देश के चंद बड़े औद्योगिक घरानों पर ही अपनी मेहरबानी दिखाई है और उन पर अपनी इनायतें लुटाई हैं जबकि देश का मध्यम व छोटा व्यापारी तबका सरकार की गलत आर्थिक नीतियों का शिकार होकर तबाही के कगार पर आ खड़ा हुआ है। जारी एक बयान में राजेंद्र राणा ने कहा इन 4 सालों में देश के चंद ओद्योगिक घरानों की कमाई कई गुना बढ़ गई है जबकि जीएसटी व नोटबंदी की सर्वाधिक मार छोटे व्यापारी तबके पर पड़ी है।

उन्होंने कहा मोदी सरकार की मेहरबानियों से कुछ पूंजीपति तो जनता के खून पसीने की बैंकों में जमा अरबों की राशि को विदेशों में ले उड़े हैं और उनका बाल भी बांका नहीं हुआ है। राजेंद्र राणा ने कहा कि मोदी शासन में देश में महंगाईए आतंकवादए बेरोजगारी की समस्या विकराल हुई है। देश की जनता को भाषणों और आश्वासनों के सिवाय कुछ नहीं मिला है । पिछले 4 सालों के दौरान भाजपा शासित राज्यों में कानून व्यवस्था की स्थिति बद से बदतर हुई है।

कहा सत्ता में आने के बाद आम लोगों के हितों को नजरअंदाज किया जाता है

दलित वर्ग पर अत्याचार व मासूम बच्चियों से जघन्य अपराधों की घटनाएं बढ़ी हैं और दोषियों को राजनीतिक संरक्षण मिलने से देश की जनता में लगातार आक्रोश बढ़ रहा है। राजेंद्र राणा ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। विदेशों से काला धन वापस लाने के मामले को लेकर भाजपा नेताओं द्वारा लोगों को गुमराह किया गया। केंद्र सरकार के 4 साल बीत जाने के बाद इस मामले पर प्रधानमंत्री ने चुप्पी साध ली है। इससे साफ साबित हो गया है कि भाजपा की कथनी और करनी में भारी अंतर है व भाजपा को आम जनता की कोई चिंता नहीं है।

राजेंद्र राणा ने कहा भाजपा ने युवाओं को गुमराह कर केंद्र में सत्ता हासिल की है लेकिन अभी तक युवाओं को मात्र कोरे आश्वासन ही मिले हैं। केंद्र सरकार बेरोजगारों के लिए कोई भी कारगर नीति बनाने में पूरी तरह से नाकाम रही है। उन्होंने कहा कि इतिहास गवाह है कि भाजपा नेता मात्र कोरे आश्वासन और भाषण देने में ही माहिर हैं जबकि सत्ता में आने के बाद आम लोगों के हितों को नजरअंदाज किया जाता है। उन्होंने कहा कि 4 साल के मोदी सरकार के कार्यकाल से लोगों का पूरी तरह मोहभंग हो चुका है।

उन्होंने कहा नोटबंदी और जीएसटी लागू ये दोनों निर्णय बिना तैयारियों के लिए गए जिस कारण देश की अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लगा है। युवाओं के लिए नई नौकरियां सृजित होना तो दूर रही । देश में उद्योग.धंधे बंद होते जाने से हजारों युवाओं को नौकरियों से हाथ धोना पड़ा है। राजेंद्र राणा ने कहा कि देश की जनता अपने साथ हुई वादाखिलाफी का अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों में माकूल जवाब देगी।

यह भी पढ़ें – बिलासपुर की रूकमणि कुंड सरकार की उपेक्षा का शिकार

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams