bjp modi

प्रधानमंत्री वीरभद्र सिंह को टारगेट किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल के चुनावी रण में बीजेपी की जीत के लिए शंखनाद कर दिया है। हालांकि इससे पहले वे पिछले एक साल में तीन बार हिमाचल आ चुके हैं। उन्होंने मंडी, शिमला और बिलासपुर में जनसभाएं की थीं, लेकिन यह किसी न किसी योजना के उद्घाटन या शिलान्यास के बहाने हुआ था। इस लिहाज से वीरवार को कांगड़ा और सिरमौर की उनकी जनसभाएं पहली चुनावी रैलियां थीं। दिलचस्प ढंग से जहां मोदी ने पूर्व में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर कोई सार्वजनिक हमला करने से गुरेज किया वहीं पहली ही चुनावी सभा में उन्होंने सीधे वीरभद्र सिंह को टारगेट किया।

भ्रष्टाचार को लेकर वीरभद्र सिंह को घेरा

अपने चिर-परिचित अंदाज़ में उन्होंने भ्रष्टाचार को लेकर वीरभद्र सिंह को घेरा। उनकी सरकार में भी बिंदुबार पांच बड़े जनविरोधी राक्षस गिनवाए। ये सब प्रत्यक्ष रूप से भ्रष्टाचार से ही जुड़े हुए हैं। निश्चित तौर पर ऐसा करके उन्होंने कांग्रेस और खासकर वीरभद्र सिंह को चौंकाया है। उनके पूर्व के भाषणों के बाद से शायद विरोधी खेमे ने इसकी कल्पना नहीं की होगी कि वे अब वीरभद्र सिंह पर सीधा प्रहार करेंगे। यही वजह रही होगी कि वीरभद्र सिंह ने दो दिन पहले ही मोदी की यह कहकर तारीफ़ की थी कि मोदी भले आदमी है।

उधर, स्थानीय स्तर पर भी बात ले देकर विकास करने कराने पर आ गई थी, लेकिन मोदी सच में चतुर सुजान निकले। उन्होंने ऐसे मौके पर वीरभद्र सिंह पर प्रहार किया है जो अब पूरे चुनाव प्रचार की दिशा बदल सकता है। यही नहीं बीजेपी को भी उन्होंने बड़ा संबल दिया है। कांग्रेस के अपेक्षाकृत स्पष्ट घोषणापत्र के बाद बीजेपी अपने विजन डॉक्यूमेंट को लेकर बैकफुट पर नजर आ रही थी।

मोदी ने बड़ी चतुराई से कांग्रेस को उल्टा घोषणापत्र पर घेर लिया

मोदी ने बड़ी चतुराई से इसमें वीरभद्र सिंह के भ्रष्टाचार का तड़का लगाकर कांग्रेस को उल्टा घोषणापत्र पर घेर लिया। अभी उनके दो दौरे और होने हैं, लेकिन पहले ही दिन उन्होंने लगभग तय कर दिया है कि चुनाव अब सीधे भ्रष्टाचार पर केंद्रित हो गया है। यही नहीं कश्मीर मसले पर चिदंबरम के बयान के बहाने मोदी ने वहां हो रही शहादत को भी हिमाचल का चुनावी मुद्दा बनाया और इस मुद्दे पर भी कांग्रेस को आड़े हाथ लिया।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams