mukesh

सुखराम की पैरोकार न बने कांग्रेस : राम कुमार

हिमाचल दस्तक ब्यूरो। ऊना
उद्योग निगम के उपाध्यक्ष व प्रदेश भाजपा प्रवक्ता प्रो. राम कुमार ने कहा कि मुकेश अग्रिहोत्री को भूलना नहीं चाहिए कि वह मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की ही कृपादृष्टि से नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी पर विराजमान हुए हैं। जबकि मुकेश के पास तो उक्त कुर्सी को हासिल करने के लिए पर्याप्त विधायक तक नहीं हैं। राम कुमार रविवार को ऊना में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। प्रो. राम कुमार ने कहा कि मुकेश अग्रिहोत्री को सुखराम जैसे दलबदलु का पैरोकार नहीं बनना चाहिए। उन्होंने कहा कि पंडित सुखराम ने परिवारवाद की सारी हदों को पार कर दिया है।

पुत्र मोह तो महाभारत काल से चला आ रहा है। लेकिन पंडित सुखराम ने पौत्र मोह को तरजीह देकर राजनीति में गलत परंपरा को जन्म दे दिया है। उन्होंन कहा कि सुखराम के परिवार को स्वार्थ पूर्ति में अव्वल स्थान दिया जाएगा, इस परिवार ने केवल अपने स्वार्थ को सिद्ध करने के लिए दल बदलने की सारी हदें पार कर दी हैं। उनका परिवार अति महत्वकांशी है।

प्रो. राम कुमार ने कहा कि आज पंडित सुखराम, अनिल शर्मा और अब आश्रय शर्मा द्वारा सीएम जयराम के खिलाफ की गई टप्पणी पर पलटवार करते हुए कहा कि जयराम पांच बार के विधायक हैं, एक बार कैबिनेट मंत्री और बोर्ड के चेयरमैन तक रह चुके हैं। इतना ही नहीं वह पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष का भी सफल दायित्व निभा चुके हैं। जबकि सुखराम परिवार को कभी टिक कर एक पार्टी में बैठा ही नहीं, ऐसे में संगठन या नेता शब्द का विश्लेषण सुखराम, उनके पुत्र और पौत्र को करना शोभा नहीं देता।

उन्होंने कहा कि अनिल शर्मा बीजेपी के नेतृत्व में विधायक बने हैं, पुत्र मोह में फंस कर बेशक उन्होंने अपने मंत्री पद से इस्तीफा दिया हो, लेकिन नैतिकता के आधार पर विधायक पद से भी त्याग पत्र देकर उपचुनाव का सामना करना चाहिए। इस अवसर पर सतीश, विवेक राणा, साहिल सहिल अन्य उपस्थित रहे।

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams