News Flash
open school

मर्ज होने वाले स्कूलों के बच्चों को मिल सकता है यात्रा भत्ता भी

  • 10 से कम छात्र संख्या वाले 300 स्कूल बंद करने जा रही सरकार

दीपिका शर्मा। शिमला
हिमाचल में नए प्राइमरी स्कूल खोलने के लिए अब कम से कम 20 बच्चे होना जरूरी होगा। 10 से कम छात्र संख्या वाले करीब 300 स्कूलों को बंद करने जा रही सरकार ने अब नए स्कूलों के लिए भी सख्त नियम बनाने पर काम शुरू किया है। पिछली कांग्रेस सरकार में शिक्षा मंत्री खुद मुख्यमंत्री थे और बतौर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह कहते थे कि वह दो बच्चों के लिए भी नया स्कूल खोलेंगे। इस नीति के कारण ही अब 300 स्कूल मर्ज करने पड़ रहे हैं। इसलिए अब नया स्कूल खोलने के प्रावधानों में भी थोड़ा बदलाव होगा।

नया स्कूल खोलने के लिए बच्चों की संख्या कम से कम बीस की होनी चाहिए। यह शर्त वहां लागू की जाने वाली है जहां पर एक किलोमीटर के पास कोई अन्य मिडल स्कूल है। वहीं यदि दो किलोमीटर के दायरे में किसी स्कूल की व्यवस्था नहीं है तो वहां पर नया स्कूल खोलने के लिए बच्चों की संख्या कम से कम दस होनी चाहिए। स्कूल मर्ज करने पर भी शिक्षा विभाग ने संबंधित क्षेत्रों के लोगों से एक हफ्ते में राय मांगी है।

जो स्कूल मर्ज हो रहे हैं, उन्हें उनकी दूरी मात्र एक से डेढ़ किलोमीटर पर स्थित दूसरे स्कूल में भेजा गया है

लोगों की आपत्तियों को देखते हुए और उनका सहयोग लेने के लिए सरकार मर्ज होने वाले स्कूलों के बच्चों को दूसरे स्कूल में भेजने के लिए यात्रा भत्ता भी दे सकती है। जो स्कूल मर्ज हो रहे हैं, उन्हें उनकी दूरी मात्र एक से डेढ़ किलोमीटर पर स्थित दूसरे स्कूल में भेजा गया है। ऐसे में अब विभाग यह प्रस्ताव तैयार करने में जुटा है कि यदि जनता की राय स्कूल बंद होने के लिए आती है, तो बच्चे के लिए दूसरे स्कूल में जाने के लिए प्रदेश सरकार यात्रा सुविधा दे सकती है। इसमें विभाग द्वारा बनाए जा रहे प्रस्ताव में बच्चों को स्पेशल गाड़ी या बस सुविधा का प्रावधान किया जा सकता है।

स्कूल मर्ज होने के बाद स्कूली बच्चे को यात्रा सुविधा पर विचार चल रहा है। फिलहाल लोगों की राय क्या है? यह जानना जरूरी है। नया स्कूल खोलने के लिए नियम पहले से हैं। इन्हें कोई फॉलो नहीं कर रहा था। -डॉ. अरुण शर्मा शिक्षा सचिव

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams