News Flash
NH

Public Work Department के हाथ-पांव फुले

शैलेश सैनी, नाहन।। आधी-अधूरी बरसात के बाद जिला सिरमौर की सड़कों के बिगड़े हालातों ने Public Work Department के हाथ-पांव फुला दिए हैं। यही नहीं NH ऑथोरिटी के अधीन नाहन-कुम्हारहट्टी नेशनल हाईवे पर दर्जनों जगह लेंड स्लाइडिंग हुई हैं। नाहन डिवीजन के अंतर्गत यशवंत विहार (बनोग) से कौलांवालाभूड की ओर जाने वाले रोड के शुरू में ही अत्यधिक भूमि में कटाव के कारण बड़े-बड़े गड्ढे पड़ गए हैं।

  • जगह-जगह भूमि में कटाव के कारण बड़े-बड़े गड्ढे पड़े
  • जान जोखिम में डालकर चलाने पड़ रहे हैं वाहन 

सड़कों के आधे-आधे हिस्से ढह जाने के कारण क्षेत्र को आपूर्ति होने वाले राशन व गैस सिलेंडर आदि पहुंचाने वाले वाहनों को जान जोखिम में डालकर वाहन चलाने पड़ रहे हैं। बनोग में ठीक हिमुडा की कॉलोनी से ऊपर की ओर से आने वाले पानी के कारण कई मकानों को खतरा भी पैदा हो गया है। सड़क में लोक निर्माण विभाग द्वारा ड्रेन पाइप सही तरीके से न डालने के कारण साथ ही ड्रेनेज की उचित व्यवस्था न होने के कारण सड़कें खुर्द-बुर्द हो गई हैं।

आईटीआई के समीप लोगों के द्वारा नियमों को ताक पर रखकर किए जा रहे निर्माण के चलते एक बड़ा भूखंड भी मुख्य सड़क पर आ गिरा। इस मार्ग से होकर गुजरना वाहनों सहित पैदल चलने वालों के लिए भी जान को जोखिम में डालने से कम नहीं है। वहीं, दूसरी ओर दोसड़का से पांवटा की ओर जाने वाले एनएच पर भारी बारिश के चलते जंगलों का कीचड़ सड़कों पर आ गया है। हैरानी की बात तो यह है कि बरसात के दिनों में एनएच पर एक बड़ी कंपनी द्वारा की गई टॉरिंग अब उखडऩे लग पड़ी है।

इसको लेकर विभाग सहित ठेकेदार की कार्यप्रणाली भी संदेह के दायरे में आ गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार नाहन डिवीजन के अंतर्गत बारिश के कारण सड़कों को एक करोड़ रुपये से ज्यादा का मालीय नुकसान हुआ है। विभाग द्वारा कर्मचारियों की छुट्टियां आदि रद कर हर वक्त ड्यूटी पर मौजूद रहने के लिए हिदायतें दी गई हैं। जमटा से महीपुर-बेचड़ का बाग सड़क पर भी जगह-जगह भूस्खलन हुआ है। इस कारण किसानों को टमाटर आदि की फसल मंडियों तक पहुंचाने में भारी दिक्कतें हो रही हैं।

यह हाल न केवल नाहन डिवीजन का है बल्कि पूरे जिले की सड़कों की हालत बारिश के कारण बद से भी बदतर हो चुकी है। नाहन से बनोग तक जाने वाला एनएच दुर्घटना का पर्याय बन गया है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जब जिला मुख्यालय के आसपास की सड़कें बद से भी बदतर स्थिति में तो जिले के दूरदराज क्षेत्रों की सड़कों का हाल क्या होगा। इसका अंदाजा लगा पाना मुश्किल नहीं होगा।

विभाग की लापरवाही व तकनीकी दृष्टि की भारी कमी के कारण सड़कों पर खर्च किया गया अरबों रुपया आधी-अधूरी बारिशों में बह गया है। इसको लेकर सरकार व विभाग की कार्यप्रणाली जनता के प्रश्नों के कटघरे में खड़ी हो गई है। बावजूद इसके विभाग केवल जेसीबी द्वारा मिट्टी से गड्ढे भरकर केवल औपचारिकता निभा रहा है।

Comments

Coming soon

Career Counsling

Get free career counsling and pursue your dreams